You are here
Home > breaking > एमसीडी चुनाव 2017: टिकट के लिए दर दर भटक रहे बीजेपी पार्षद, थाम सकते हैं आप और कांग्रेस का हाथ

एमसीडी चुनाव 2017: टिकट के लिए दर दर भटक रहे बीजेपी पार्षद, थाम सकते हैं आप और कांग्रेस का हाथ

आलेख: मुकेश दीक्षित

नई दिल्ली: बीजेपी के लिए 153 मौजूदा निगम पार्षदों का टिकट काटने का फैसला एक बड़ी सिरदर्दी बन रहा है। हालांकि प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने फिर कहा है कि उनका यह तुगलकी फैसला बदला नहीं जाएगा। पार्टी के पार्षद अब सीनियर नेताओं पर लगातार दबाव डाल रहे हैं कि इस फैसले को बदला जाए। कुछ लोग हाईकमान को यह सलाह भी दे रहे हैं कि वह अपने पांवों पर कुल्हाड़ी न मारे। सभी पार्षदों का टिकट काटने का मतलब यह लगाया जाएगा कि बीजेपी के सारे पार्षद करप्शन में डूबे हुए थे।
2013 में भाजपा ज्वाइन करने वाले 2014 में मोदी लहर में सांसद बने और 2016 में प्रदेश अध्यक्ष बने मनोज तिवारी ईमानदारी के प्रमाण पत्र बाट रहे है। सवाल उठ रहा है कि क्या प्रदेश अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी के यहाँ सब कुछ ईमानदारी से चल रहा है? कुछ लोगों का ये भी मानना है कि
इससे विरोधी पार्टियों को एक बड़ा मुद्दा मिल जाएगा।
22 अप्रैल को होने वाले नगर निगम चुनावों के लिए 27 मार्च से नाॅमिनेशन का काम शुरू होना है। जैसे-जैसे यह तारीख नजदीक आ रही है, बीजेपी के मौजूदा पार्षदों की बेचैनी बढ़ती जा रही है। पार्षदों ने हाईकमान के इस फैसले के बाद दो दिन तो खामोशी रखी लेकिन अब वे बड़े नेताओं के दरवाजों पर जा रहे हैं और उनके सामने अपना गुस्सा और बेबसी दोनों ही जता रहे हैं। वे पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से भी मिल आए हैं और मंगलवार की रात उनकी मुलाकात पार्टी प्रभारी श्याम जाजू और केंद्रीय मंत्री विजय गोयल से हुई। बुधवार को वे केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के घर जा पहुंचे। सभी इन पार्षदों से हमदर्दी तो जता रहे हैं लेकिन कोई भी इनसे वादा करने की स्थिति में नहीं है। इससे पहले मंगलवार को इन पार्षदों ने सिविक सेंटर में 5 घंटे की लंबी मुलाकात की और यह तय किया कि बड़े नेताओं तक अपनी आवाज जरूर पहुंचाई जाए। पार्षद इस बात से तो नाराज हैं ही कि उनका टिकट काटा जा रहा है लेकिन इस बात से भी बहुत खफा हैं कि उनका टिकट बेइमान कहकर काटा जा रहा है जबकि किसी पर भी बेइमानी साबित नहीं हुई। और बेईमान साबित कर रहे है वो अध्यक्ष जो भाजपा में अभी 3 साल पहले ही आये है।।
कांग्रेस और आम आदमी पार्टी दोनों ही बीजेपी की इस हालत का फायदा उठा रहे हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने कहा है कि बीजेपी के कई पार्षद उनसे मिलने के लिए आ चुके हैं और वे कांग्रेस का टिकट चाहते हैं। कांग्रेस के टिकटों पर फैसला 24 मार्च के बाद होगा उधर, आम आदमी पार्टी ने भी दावा किया है कि बीजेपी पार्षद उनके संपर्क में हैं।

Leave a Reply

Top