You are here
Home > MANORANJAN > युगांतर:द चेंजिंग टाइम्स का उद्घाटन वरिष्ठ पत्रकार सर्जना शर्मा ने किया

युगांतर:द चेंजिंग टाइम्स का उद्घाटन वरिष्ठ पत्रकार सर्जना शर्मा ने किया

आर्ट लाइफ गैलरी ने आज वरिष्ठ कलाकार श्री रामचंद्र खरतमल का एक विशेष सोलो आर्ट शो “युगांतर: द चेंजिंग टाइम्स” को अनावरित किया है। इस ऑनलाइन एवं ऑफलाइन शो का उद्घाटन सरजना शर्मा जी द्वारा किया गया,जो एक वरिष्ठ पत्रकार हैं, एवं वर्तमान में कोलकाता के लोकप्रिय सन्मार्ग अखबार से जुड़ी हुई हैं। सरजना शर्मा जी सूचना और प्रसारण मंत्रालय के पत्रकार कल्याण समिति की सदस्य और हिंदी साहित्य भारती, दिल्ली प्रदेश की उपाध्यक्ष हैं। यह शो 23 अक्टूबर से 3 नवंबर,2020 तक 10 दिनों के लिए होगा। इस प्रख्यात कलाकार द्वारा 20 चित्रों के शो को देखने के लिए गैलरी का समय सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक है।

कोरोना के इन चुनौतीपूर्ण समय के दौरान कलाकार ने इस बात की काफी तुलना की है कि समय क्या था और हम कैसे बदल गए हैं। उनकी सुपरमैन पेंटिंग इसका एक बेहतरीन उदाहरण है जो कहती है कि बीमारी को हराने के लिए सुपरमैन की तरह एक नकाबपोश व्यक्ति बनो। इस शो में कलाकार ने अपनी मां की यादों,बचपन और पिछले अनुभवों पर आधारित चित्र उकेरे हैं, और कोरोना ने कैसे चीजों को बदल दिया है इसका एहसास कराया है। मुख्य रूप से उन्होंने अवचेतन के तत्वों को इस हद तक खोजा है कि खरतमल ने अतीत और वर्तमान को बहुत सहजता से मिलाया है।

खरतमल पुणे के एक कलाकार हैं, जो मूल रूप से महाराष्ट्र के सोलापुर के हैं,और दो दशकों से अधिक समय से कला क्षेत्र से जुड़े हैं।

उनके काम को पूरे देश में 30 से ज्यादा कला प्रदर्शनियों में लगाया गया है। उनके काम को दुनिया भर में सराहा जाता है। खरतमल कई पुरस्कारों के विजेता हैं, एवं पेंटिंग उनके लिए एक ईश्वरीय अनुभव है। यह आंखों के माध्यम से हृदय तक पहुंचते हैं और मानव मन की अदृश्य इंद्रियों को जागृत करते हैं। पेंटिंग केवल रंगों, रेखाओं,आकृतियों का खेल नहीं है,एक पेंटिंग चित्रकार और दर्शक द्वारा विभिन्न स्तरों पर महसूस किया गया एक अनुभव है। जब कौशल और नवाचार एक साथ आते हैं,तो यह महान कलाकृति बनती है। वह दृश्य अनुभव कलाकार और दर्शक को एक साथ लाता है और वृत्त पूरा हो जाता है।

उन्होंने इस प्रदर्शनी में कई चित्रों के निर्माण के लिए मुख्य रूप से रजाई तत्व का उपयोग किया है। अधिकांश चित्र आलंकारिक तत्वों के साथ हैं। इसके साथ ही थोड़ा आगे आते हुए, उन्होंने स्मृतियों का विषय बना लिया है। कुछ यादें अतीत में घटी घटनाओं के रूप में होती हैं, उन्हें भुलाया नहीं जा सकता, चाहे वह अच्छी हो या बुरी। जब हम कुछ तत्वों को देखते हैं, तो अतीत की यादें हमें उन चीजों के बारे में बताने लगती हैं, कुछ क्षणों के लिए हम उस वस्तु के साथ अपने अतीत के रिश्ते को अपनी आंखों के सामने महसूस करना शुरू कर देते हैं। “खरतमल कहते हैं की तभी एक उत्कृष्ट कलाकृति का निर्माण होता है।

एक पेंटिंग में हम एक सिलाई मशीन देखते हैं,और उसके बगल में एक छोटा लड़का गर्म रजाई में सो रहा है। “उस पेंटिंग में सिलाई मशीन मेरी मां का प्रतीक है। सिलाई मशीन और माँ एक जीवित समीकरण की तरह थे। सिलाई मशीन रुक-रुक कर चलती है इसलिए इसकी छाया नीचे होती है। मेरे लिए माँ एक मात्र अनुभव है,न कि एक मानवीय दृश्य जो कि इस पेंटिंग के फ्रेम में पूरा प्रस्तुत करना संभव नहीं है। “खरतमल कहते हैं जब मैं कुछ तत्वों को देखता हूं, तो मेरी कुछ यादें ताज़ा हो जाती हैं।

एक लकड़ी के घोड़े की पेंटिंग है और पृष्ठभूमि में एक छोटे लड़के के जन्मदिन की एक पुरानी तस्वीर है। “हर बार जब मैं लकड़ी का घोड़ा देखता हूं तो मुझे अपना जन्मदिन की याद आ जाती है। मैं उन दिनों केवल इस घोड़े पर बैठता था,तब तक मैं पुराने फोटो स्टूडियो (सोलापुर में पटवा फोटो स्टूडियो) में एक भी फोटो नहीं लेता था।” ऐसी कई यादों के तत्व सभी के मन में होते हैं। कभी-कभी जब वे विभिन्न संदर्भों में उनके सामने आते हैं, तो मन के खुश या उदास होने का कारन हो सकते हैं, जिसे एक चित्रकार अपने कैनवस पर उकेरता है।

Top