You are here
Home > NEWS > Yoga lovers ने”मोटापे से निजात पाने के सूत्र” पर कार्यशाला का आयोजन किया

Yoga lovers ने”मोटापे से निजात पाने के सूत्र” पर कार्यशाला का आयोजन किया

अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त पंचम योग गुरू सुनील सिंह जी के सानिध्य में yoga lovers ने 7.1.2018 को आर्य समाज मंदिर जंगपुरा के प्रांगण में  10 वी कार्यशाला का आयोजन किया ा डॉ मान्या दत्ता, श्री अनिल कौल और श्री महेश केसर के संरक्षण में आयोजित किया गया।

इस कार्यशाला का शुभारंभ ॐ की ध्वनि और मंत्र उच्चारण के साथ योगिनी मंजू छेत्री और योगिनी बबली ने मंच का कार्यभार बड़ी ही कुशलता से संभाला। मंच की शोभा बढ़ाते हुए श्रेया सिंह ने शिवतांडव प्रस्तुत किया जिस से कार्यशाला में चार चांद लग गए।

योग गुरु सुनील सिंह  के द्वारा “प्राणायाम सूत्र” पर लिखि पुस्तक का दोनो वक्ता एवं yoga lovers team के द्वारा प्रकाशन किया गया,साथ ही yoga lovers की 10वी  कार्यशाला होने पर सभी को बधाई दी और टीम का प्रोत्साहन बढ़या।

इस कार्यशाला के प्रथम वक्ता dr.rajesh batra जी ने प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति के द्वारा मोटापे से निजात पाने की विधि बताई।उन्होंने बताया कि किस तरह प्रकृति के पांच तत्व(अग्नि, जल,आकाश,वायु और पृथ्वी)के द्वारा मनुष्य शरीर को निरोगी रख सकता है ।सब से पहले मोटापे के होने के कारण बताए। जिसमे अनियमित दिनचर्या, गलत खान पान, hormones in balanceहोना,बहुत अधिक दवाइयों का प्रयोग करना आदि। dr.rajesh batra ने बताया की शरीर के तीन system जो की digestive system के साथ जुड़े हैं। पाँचन, अवशोषण और निष्कासन। पाँचन का अर्थ है जो खाया है वह अच्छे से पच जाए। अवशोषण का अर्थ है जो भी भोजन में आवश्क पौष्टिक्ता हैं उसे शरीर ले सके। निष्कासन का अर्थ है जो खाया हैं और जो नही पचता है उसे निष्कासन के द्वारा बाहर निकाल दिए जाते हैं। साथ ही आयुर्वेद पर भी प्रकाश डाला जिसमे वात, पित्त एवं कफ पर चर्चा की। आहार तालिका में बताई की (सभी प्रकार के सब्जी और फल)  खा सकते हैं अंकुरित अनाज का सेवन कर सकते हैं तथा फ़ास्टफ़ूड से परहेज करना चाहिए। प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति के द्वारा उपचार में (1)उन्होंने मिट्टी की पट्टी। (2)भाप स्नान। (3)तिल के तेल से मालिश। (4) Enema आदि। इन सभी उपचारों को अपना कर मोटापे से निजात पा सकते हैं।

कार्यशाला के माहौल को और भी सुंदर बनाते हुए। तान्या सक्सेना ने एक नृत्य प्रस्तुत किया जिस से कार्यशाला में मौजूद सभी का मन आनंद में हो  गया।

इस कार्यशाला के द्वितीय वक्ता सुनीता कटारिया थी। जिन्होंने योग के माध्यम से खुद को स्वस्थ रखने के तरीके बताए ।तथा मोटापे से निजात पाने के लिए योग विधि बताई एवं योग को जीवन मे अपना कर किस तरह जीवन को स्वस्थ रखा जाए इस के  लिए उपचार एवं उपाय बताए।

सुनीता कटारिया जी ने बताया कि मोटापे के बढ़ने का एक कारण तनाव भी  होता हैं उन्होंने इसे रोकने के लिए योगिनी एकता के सहयोग से योग के कुछ आसन बताए जो मोटापे को रोकने में लाभदायक होते हैं आसन अभ्यास में  पहले कुछ सूक्ष्म व्यायाम कराए और फिर आसन जिसमें ( ताड़ासन,तिर्यक ताड़ासन,नौकासन, कटिचक्रासन,जानुसीरशासन, उत्तानपादासन,) कुछ काउंटर पोज़ बताए( धनुरासन, मर्कटासन शशांकासन,)तथा सूर्यनमस्कार आदि का अभ्यास कराया ।

इस कार्यशाला में अंतर्राष्ट्रीय पञ्चम योग गुरु सुनील सिंह ने बताया कि यदि स्वंयम को मोटापे से दूर रखना है तो व्यक्ति को सुबह का नाश्ता एक राजा की तरह करना चाहिए मतलब की भर पेट, दिन का भोजन सामान्य रूप से तथा रात का भोजन एक बिखारी के जैसे मतलब की बहुत ही कम करते हैं तो आप कभी मोटे नही होंगे। और यदि कोई है भी तो वह एक महीने में 4 से 5 किलो वज़न कम कर सकता है। साथ ही बताया भोजन को 32 बार चबा- चबा कर खाना चाहिए। और लिक्विड डाइट का अधिक सेवन करना चाहिए। जो लोग वज़न कम करना चाहते हैं उन्हें हफ्ते में एक बार उपवास रखने को बताया। योग गुरु सुनील सिंह जी ने यह सभी बातों को बताते हुए अपनी वाणी को विराम दिया ।

योगिनी मंजू छेत्री के शिष्यो द्वारा योगा पर एक अनूठी प्रस्तुति दी गई।जिसे देखकर सब स्तब्ध रह गए।

इस कार्यशाला में लगभग 75 से 80 व्यक्तियो ने भाग लिया जिसमें कुछ वृद्ध और कुछ युवा व्यक्ति अौर मिहलाए थी। इस कार्यशाला के अंत में अंतर्राष्ट्रीय योग गुरू सुनील सिंह, मान्या दत्ता, मुकेश केसर एवं अनिल कौल के द्वारा दोनो वक्ता और सभी बच्चों को समानित किया गया।

Yoga lovers core team और yoga lovers women wing के लगभग सभी सदस्यों ने अपनी उपस्थिति देकर शोभा बढ़ाई एवं योग से सम्बंधित वस्तुओं का stall भी लगाया। योगी parkash ,योगी सचिन एवं योगी शुभम के सहयोग से जलपान लेते हुए कार्यशाला  सम्पन हुई।

Yoga lovers का प्रयास प्रत्येक कार्यशाला में जनजागरण में विभिन्न प्रकार के रोगों से मुक्त हो स्वस्थ रखने की जागरूकता देना है।

Leave a Reply

Top