You are here
Home > breaking > Yoga lovers ने “मधुमेह से निजात पाने के सूत्र” पर कार्यशाला का आयोजन कियाl

Yoga lovers ने “मधुमेह से निजात पाने के सूत्र” पर कार्यशाला का आयोजन कियाl

अंतराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त पंचम योग गुरू सुनील सिंह के सानिध्य में Yoga Lovers ने 17.12.2017 को श्री रवि नारंग और श्रीमती नीलू नारंग के सौजन्य से आर्य समाज मंदिर, लाजपत नगर-2 के प्रांगण में नवमी कार्यशाला का आयोजन डॉ मान्या दत्ता, श्री अनिल कौल और श्री महेश केसर के संरक्षण में आयोजित किया गया।

इस कार्यशाला का शुभारंभ ॐ की ध्वनि और महामृत्युंज्य मंत्र के साथ योगी शुभम सिंह और योगिनी सोनिया ने मंच का कार्यभार बड़ी ही कुशलता से संभाला।

योग गुरु सुनील सिंह के द्वारा मधुमेह पर लिखी पुस्तक का प्रकाशन Yoga Lovers द्वारा किया गया, जिसमें मधुमेह से कैसे छुटकारा पाने के सूत्र, योग अभ्यास एवं खान- पान का वर्णन किया गया है।

इस कार्यशाला के प्रथम वक्ता प्राकृतिक चिकित्सक श्री बिपिन सिंह ने प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति के द्वारा मधुमेह से निजात पाने की विधि बताई।उन्होंने बताया कि किस तरह प्रकृति के पांच तत्वों (अग्नि, जल, आकाश, वायु और पृथ्वी) के द्वारा मनुष्य शरीर को निरोगी रख सकता है। श्री बिपिन सिंह ने मधुमेह के दो प्रकार बताये एक जो Gestational और prediabetes। Gestational में माँ के गर्भ में ही मधुमेह रोग होता हैं तथा prediabetes इस अवस्था में मधुमेह रोग अपने पूर्वजो से होता हैं ये व्यक्ति के जीवन मे किसी भी आयु में हो सकती हैं। श्री बिपिन सिंह ने बताया कि जब अग्नाश्य में इन्सुलिन बनना कम या बंद हो जाता है तब मधुमेह रोग होता हैं ।मधुमेह के रोगीयों के लिए आहार तालिका भी बताई (सभी प्रकार के सब्जी और फल) (आंवला, अमरूद, पपीता केला) खा सकते हैं और अनाज में गेहूं के साथ जौ और चने की रोटी खाने की सलाह दी ) तथा (अधिक मीठा नहीं खाए एवं फ़ास्ट फ़ूड ) से परहेज करना चाहिए। गाजर के साथ अदरक मिला कर इसका जूस पिए।कच्ची हल्दी का प्रयोग करें। फीकी चाय के साथ भुने हुए अनाज खाने की सलाह दी।

प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति के द्वारा उपचार में (1)उन्होंने मिट्टी की पट्टी 15 से 20 मिनट रखने को बताया।(2)रीड़स्नान 15 मिनट ।(3)नीम के पत्तों को पीस कर उसमें कच्ची हल्दी मिला कर शरीर के घाव या खुजली वाले स्थान पर लगाए।(4)लाल रंग की बोतल में तेल को सूर्य के प्रकाश में रख कर 15 दिन तक उससे चार्ज करके उससे मालिश करे।इस तेल को लकडी पर ही रखे।
(5)नीम ,तुलसी,बेल,जामुन के पत्तों का जूस निकल कर पानी मे मिला कर खाली पेट पिये।(6) नाभि पर हरे रंग की पट्टी को बांध कर सूर्य से ऊर्जा लेने से भी मधुमेह से निजात पा सकते हैं।

इस कार्यशाला के द्वितीय वक्ता योगाचार्य निवास पांडेय थे। जिन्होंने योग के माध्यम से खुद को स्वस्थ रखने के तरीके बताए ।तथा मधुमेह से निजात पाने के लिए योग विधि बताई एवं योग को जीवन मे अपना कर किस तरह जीवन को स्वस्थ रखा जाए इस के  लिए उपचार एवं उपाय बताए।
योगाचार्य ने अपने अनुभव बाँटा।योगाचार्य ने बताया कि मधुमेह के बढ़ने का मुख्य कारण तनाव होता हैं उन्होंने बताया जब इन्सुलिन cell तक नही पहुँचता हैं तब शरीर मे विकार उत्पन होने लगते हैं योगाचार्य निवास पांडेय जी ने योगिनी सुजाता के सहयोग से योग के कुछ आसन बताए जो मधुमेह के रोग में लाभदायक होते हैं आसन अभ्यास में निवास पांडेय जी ने  पहले कुछ सूक्ष्म व्यायाम कराए और फिर आसन जिसमें ( मंडूकासन, वक्रासन,अर्धमत्स्येन्द्रासन,जानुसीरशासन, उत्तानपादासन,) कुछ काउंटर पोज़ बताए( धनुरासन, मर्कटासन शशांकासन) तथा सूर्य नमस्कार आदि का अभ्यास कराया ।

इस कार्यशाला के तृतीय वक्ता अंतर्राष्ट्रीय पञ्चम योग गुरु सुनील सिंह ने योगिनी करुणा जी के सहयोग से मधुमेह के लिए प्रणायाम  और ध्यान की विधि बताई । प्राणयाम में अग्निसार क्रिया,  कपालभाति एवं अनुलोम विलोम,सूर्यभेदी। तथा कुछ मधुमेह के लक्षण बताए जैसे बार बार पेशाब जाना,अधिक वजन बढ़ना,पैरो के तलवों में बार बार खुजली होने, धुंधला दिखना आदि।

योगिनी एकता सिंह के शिष्यो द्वारा एक अनूठी प्रस्तुति दी गई।जिसे देखकर सब स्तब्ध रह गए।

अनुजा जी और उनके परिवार के सदस्यों ने योग गुरु सुनील सिंह को एक बार फिर योग गुरु के आसनो की पेंटिंग Yoga Lovers को सप्रेम भेंट दी गई।

सुपुत्री सिमरन केसर एवं योगा लवर्स के ट्रस्टी श्री महेश केसर ने yoga lovers की core टीम के साथ साथ योगा लवर्स की वोमेन विंग को सप्रेम उपहार दिए। श्री केसर जी की योग के प्रति आस्था एवम प्रेम अवर्णनीय है।

इस कार्यशाला में लगभग 60 से 70 व्यक्तियो ने भाग लिया जिसमें कुछ वृद्ध और कुछ युवा व्यक्ति भी थे। इस कार्यशाला के अंत मे डॉ मान्या दत्ता और श्री मुकेश केसर के द्वारा दोनो वक्ताओं को Yoga Lovers कि ओर से ट्रॉफी देकर समानित किया गया।

Yoga lovers के लगभग सभी सदस्यों ने अपनी उपस्थिति देकर कार्यशाला की शोभा बढ़ाई एवं योग से सम्बंधित वस्तुओं का stall भी लगाया।

अंत में जलपान लेते हुए कार्यशाला  सम्पन हुई।

Yoga lovers का प्रयास प्रत्येक कार्यशाला में जनजागरण में विभिन्न प्रकार के रोगों से मुक्त हो स्वस्थ रखने की जागरूकता देना है।

Leave a Reply

Top