You are here
Home > breaking > मुंबई पहुंचा किसानों का सैलाब, सरकार को घेरने का एेलान

मुंबई पहुंचा किसानों का सैलाब, सरकार को घेरने का एेलान

देश के कई हिस्सों में किसान अपने हक के लिए आंदोलन कर रहे हैं। लेकिन इस समय महाराष्ट्र के किसानों ने सरकार को घेरने का पूरा मन बना लिया है। किसानों का एक सैलाब सरकार से निपटने के लिए मुंबई पहुंच गया है। किसानों की सरकार से मांग है कि उनकी मांगो को माना जाए नहीं तो फिर उनका प्रदर्शऩ और भी ज्यादा उग्र होगा।

सरकार के खिलाफ महाराष्ट्र के करीब 35 हजार किसानों का मोर्चा मुंबई पहुंच गया है। अभी वे सब मुंलुंड से आगे बढ़ रहे हैं और जल्द ही सोमैया मैदान में पहुंच जाएंगे। किसानों ने कल यानी 12 मार्च को महाराष्ट्र की विधानसभा का घेराव करने का एेलान किया है। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के किसान मोर्चे अखिल भारतीय किसान सभा (एआईकेएस) की अगुवाई में यह विरोध मार्च मंगलवार को नासिक से मुंबई के लिए रवाना हुआ था।

किसानों ने उचित मुआवजे और ऋण माफी की मांग को लेकर 12 मार्च को विधानसभा के बाहर प्रदर्शन करने को योजना बनाई है। एआईकेएस के राज्य महासचिव अजित नवले ने कहा कि ये किसान सरकार की ओर से उनसे किए गए वादों को लागू नहीं करने को लेकर जवाब मांगेंगे।  नवले ने बताया, “राज्य के किसान कृषि संकट से जूझ रहे हैं और वे भारी वित्तीय बोझ के तले दबे हैं। सरकार ने उन्हें राहत पहुंचाने के लिए कुछ नहीं किया है, इसलिए उनके पास विरोध मार्च के माध्यम से अपने आक्रोश को व्यक्त करने के अलावा कोई चारा नहीं है।

नवले ने कहा कि किसानों की 180 किलोमीटर लंबी पदयात्रा में शुरू में 12,000 किसान शामिल थे, जिसमें अब 30,000 से ज्यादा किसान शामिल हो चुके हैं, जो किसानों के बीच असंतोष की तीव्रता को दर्शाता है। उन्होंने कहा जिस तरीके से किसान इससे जुड़ रहे हैं अपने गंतव्य तक पहुंचते-पहुंचते विरोध प्रदर्शन में शामिल किसानों की संख्या 55,000-60,000 हो जाएगी। एआईकेएस की प्रमुख मांगों में ऋण का पूर्ण अधित्याग और कृषि लागत का 1.5 गुणा लाभ दिलवाना शामिल है। ये किसान स्वामीनाथन समिति की सिफारिशों को तुरंत लागू करने की मांग कर रहे हैं, जो उचित पारिश्रमिक सुनिश्चित करता है।

Leave a Reply

Top