You are here
Home > NEWS > चीन के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए स्वदेशी जागरण मंच की हुंकार, स्वदेशी महारैली

चीन के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए स्वदेशी जागरण मंच की हुंकार, स्वदेशी महारैली

चीन के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए स्वदेशी जागरण मंच अब तक की सबसे बड़ी हुंकार भर चुकी है। रामलीला मैदान में 29 अक्टूबर रविवार सुबह 11 बजे स्वदेशी महारैली आयोजित हुई। जिसमे करीब एक लाख से अधिक लोगों का जन सैलाब था। इस महारैली में अश्विनी महाजन, सतीश कुमार, जी डी बक्शी, प्रदीप शर्मा, सुशील पांचाल, मनोज गुप्ता, दीपक त्यागी, इन्द्रेष कुमार जी, जनरल विष्णुकांत चतुर्वेदी जी आदि मौजूद थे। चीन की देश के विरुद्ध आर्थिक सामाजिक नीतियों के प्रति सरकार, जनता, व्यापारियों उद्योगपतियों को आगाह किया गया था… कि चीनी माल का बहिष्कार करें। चीन से जो माल गैर कानूनी रूप से भारत आ रहा है, उस पर रोक लगाएं तथा चीनी माल पर हैवी ड्यूटी लगाकर भारतीय उद्योगों को संरक्षण दें, जिसमें भारतीय उद्योग उभर सकें। इस महारैली के माध्यम से जहां मंच से लोग चीन को सख्त संदेश दे रहे थे वहीं, केंद्र सरकार पर चीन के प्रति अपनी विदेश नीति में बदलाव लाने का दबाव का प्रस्ताव भी रखा गया। खास बात तो ये थी कि भारत में रहकर तिब्बत की स्वतंत्रता की मांग कर रहे निर्वासित तिब्बती भी इसमें शामिल हुऐ थे। महारैली को सफल बनाने के लिए मंच के कार्यकर्ता विवेकानंद जयंती पर पिछले वर्ष की 12 जनवरी से ही जुटे हुए हैं। इस बारे में स्वदेशी जागरण मंच के अखिल भारतीय संयोजक अरुण ओझा ने बताया कि इसके तहत घर-घर संपर्क के साथ ही हस्ताक्षर अभियान चलाया गया था। और इस वर्ष मई माह तक एक करोड़ सात लाख लोगों ने हस्ताक्षर किया। देश के साढ़े चार सौ जिलों में विरोध प्रदर्शन भी किया गया। ओझा ने बताया कि इस महारैली में किसान, मजदूर के साथ ही व्यापारी, उद्यमी व छात्र संगठनो ने भी भाग लिया। इसके अलावा विभिन्न सामाजिक संगठनों की भी भागेदारी रही।

देखिये वीडियो :-

 

 

Leave a Reply

Top