You are here
Home > breaking > सुशांत की मौत की जांच, बिहार बनाम महाराष्ट्र बनती हुई। कहीं राजनीति का शिकार ना हो जाये।

सुशांत की मौत की जांच, बिहार बनाम महाराष्ट्र बनती हुई। कहीं राजनीति का शिकार ना हो जाये।

अतुल गंगवार

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत कैसे हुई? ये बात अब उलझती जा रही है। वरिष्ठ वकील एवं सांसद सुब्रह्म्ण्यम स्वामी ने सुशांत की मौत में पुलसिया जांच पर सवाल उठाये हैं। उनके सवालों की एक लंबी लिस्ट है जिनके जवाब पुलिस को देने हैं। वहीं इस मामले में सुशांत के पिता ने सुशांत की प्रेमिका रिया चक्रवर्ती के खिलाफ सुशांत को आत्महत्या के लिए मजबूर करने का आरोप लगाते हुए बिहार में एक FIR दर्ज करा दी है। उनके अनुसार सुशांत को रिया और उसके परिवार ने इस तरह से दिमागी, आर्थिक रूप से परेशान किया कि उसके पास अपनी जान देने के अलावा कोई उपाय नहीं बचा। हालांकि सुब्रह्म्ण्यम स्वामी के सवालों को देखें तो उनके हिसाब से जिस तरह से सुशांत का शव मिला है उससे उनकी हत्या का अंदेशा ज़्यादा है।

हत्या या आत्महत्या।… जो भी हो लेकिन एक प्रतिभाशाली अभिनेता का ऐसा अंत दुर्भाग्यपूर्ण हैं। उसको न्याय दिलाने के लिए बिहार के तमाम नेता एक जुट हो गए हैं। बिहार सरकार ने FIR को आधार बनाकर तुरंत एक पुलिस दल को मुंबई भेज दिया है। हालांकि इस दल को मुंबई पुलिस से अपेक्षित सहयोग ना मिलने की बात की जा रही है। साथ ही वरिष्ठ अधिवक्ता उज्जवाल निकम का मानना है कि बिहार सरकार अपने यहां दर्ज FIR के आधार पर इस मामले की सीबीआई जांच के लिए कह सकती है, इसके लिए उसे महाराष्ट्र सरकार की अनमति की आवश्यकता नहीं है।

शुरूआती जांच में जो तथ्य, बातें सामने आ रहीं है उससे एक बात तो तय है कि इस मामले में सबकुछ सामान्य नहीं है। सुब्रह्म्ण्यम स्वामी के आरोपों का अभी तक कोई जवाब नहीं मिला है। जिस तरह से महाराष्ट्र सरकार विशेष रुप से उद्धव ठाकरे इस मामले में अपनी प्रतिक्रिया दे रहें हैं वह भी हैरान करने वाली है। महाराष्ट्र भाजपा भी सीबीआई जांच की मांग कर रही है।

सुशांत की कथित प्रेमिका की भूमिका इस मामले में संदिग्ध दिखाई दे रही है। उन्होंने सोशल मीडिया पर एक वीडियों डाल कर अपना पक्ष रखने की कोशिश की है। हालांकि वहां सुशांत के फैन्स ने उन्हें बुरी तरह ट्रोल किया है। रिया को अगर वो निर्दोष है तो सीबीआई जांच की मांग करनी चाहिए, जिससे दूध का दूध-पानी का पानी हो जाये। लेकिन उन्हें बहुत सारे ऐसे सवालों का जवाब देना है जो उन्हें मुश्किल में डालने वाले हैं। मसलन सुशांत के लिए असुरक्षित घर क्यों ढूंड़ा, सुशांत का रेग्यूलर स्टाफ क्यों बदला, सुशांत को दी जाने वाली दवाईयां किसके कहने पर दी जाती थीं… वगैरह वगैरह।

सुशांत मामले में रुमी ज़ाफरी का या ब्यान कि सुशांत उनके साथ एक फिल्म करने वाला था जिसको लेकर सुशांत बहुत खुश था ये बताता है कि कम से कम सुशांत के मरने की वजह काम की कमी नहीं थी।

हो सकता है कानूनी रुप से इस मामले में जांच किस से करानी है इसका अधिकार महाराष्ट्र सरकार का हो लेकिन सुशांत की मौत का सच सबके सामने लाना भी महाराष्ट्र सरकार का काम है। अगर सुशांत की मौत का सच सीबीआई जांच से बाहर आ सकता है तो उसे ये फैसला लेने में देर नहीं करनी चाहिए।

Top