You are here
Home > NEWS > रामसेतु को राष्ट्रीय ऐतिहासिक धरोहर घोषित किया जाए : डा सुरेन्द्र जैन

रामसेतु को राष्ट्रीय ऐतिहासिक धरोहर घोषित किया जाए : डा सुरेन्द्र जैन

नई दिल्ली दिसम्बर 13, 2017| विश्व हिंदू परिषद (विहिप) अमेरिकी वैज्ञानिकों, पुरातत्वविदों व डिस्कवरी चैनल के इस दावे, कि रामसेतु मानव निर्मित है, का स्वागत करती है। विहिप के अंतर्राष्ट्रीय संयुक्त महा सचिव डा सुरेन्द्र कुमार जैन ने कहा है कि नासा का सैटेलाइट इस तथ्य की ओर पहले ही संकेत कर चुका था, इन वैज्ञानिक खोजों ने यह और स्पष्ट कर दिया है कि केवल रामसेतु ही नहीं, भगवान राम भी भारत के गौरवशाली इतिहास का एक अटूट भाग हैं।

डा जैन ने कहा कि यह रिपोर्ट उन लोगों के मुंह पर करारा तमाचा है जो भगवान राम के अस्तित्व पर ही प्रश्न चिह्न लगाते थे और उनको काल्पनिक चरित्र मानते थे। वे राम को नकारने वाले एक षड्यंत्र के अंतर्गत हिंदू आस्थाओं को अपमानित कर रहे थे। अंग्रेजों के द्वारा प्रारंभ किया गया यह षड्यंत्र भारत को अपनी जड़ों से काटने का षड्यंत्र था क्योंकि उन्हें मालूम था कि भारत की जड़ें राम के साथ जुड़ी हैं। दुर्भाग्य है कि आजादी के बाद भी जिस तरह कुछ राजनीतिज्ञों और भाड़े के इतिहासकारों ने राम के अस्तित्व को नकारा वह बेहद शर्मनाक है। अब उन सबको व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को राम के अस्तित्व को नकारने वाले  शपथ पत्र देने के लिए देश से माफी मांगनी चाहिए।

विहिप के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री विनोद बंसल द्वारा जारी प्रेस वक्तव्य में डॉक्टर जैन ने दावा किया कि यह निश्चित हो गया है कि अब रामसेतु को तोड़ा नहीं जाएगा। विश्व हिंदू परिषद मांग करती है कि रामसेतु को राष्ट्रीय ऐतिहासिक धरोहर घोषित किया जाए जिससे भविष्य में कोई इस ओर उंगली उठाने का भी साहस न कर सके।

Leave a Reply

Top