You are here
Home > NEWS > पीएम नरेंद्र मोदी- लोग कहते थे हमारी 2 अक्टूबर की छुट्टी खराब कर दी

पीएम नरेंद्र मोदी- लोग कहते थे हमारी 2 अक्टूबर की छुट्टी खराब कर दी

पीएम नरेंद्र मोदी ने गांधी जयंती के मौके पर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी और विज्ञान भवन में मोदी ने कहा कि स्वच्छता अभियान के तीन साल में हम आगे बढ़े हैं. बेशक, इसके लिए लोगों ने मेरी आलोचना कि, कहा हमारी 2 अक्टूबर की छुट्टी खराब कर दी. मेरा स्वभाव है कि बहुत सी चीजें झेलता रहता हूं. झेलना मेरा दायित्व भी है और झेलने की कैपेसिटी भी बढ़ा रहा हूं. हम तीन साल तक लगातार लगे रहे. हालांकि देश के कई राज्य अभी भी खुले में शौच से मुक्त नहीं हो पाए हैं. इस काम में चुनौतियां हैं लेकिन इससे भागा नहीं जा सकता.

पीएम मोदी ने कहा कि कोई इंसान ऐसा नहीं है, जिसे गंदगी पसंद हो. मूलत: हमारी प्रवृत्ति स्वच्छता पसंद करने की है. हम महात्मा गांधी के बताए रास्ते पर चल रहे हैं. देश का मीडिया जल्द ही उनकी तस्वीरें छापेगा कि स्वच्छ भारत अभियान से दूर कौन भाग रहा है. जब देश स्वीकार कर लेता है तो आप चाहें या न चाहें आपको उससे जुड़ना पड़ता है.

स्वच्छता अभियान भारत सरकार का नहीं, देश के सामान्य आदमी का सपना बन चुका है. अब तक जो सिद्धी मिली है वह देशवासियों की है, सरकार की नहीं. स्वराज के केंद्र में सत्याग्रह था और भारत के केंद्र में स्वच्छता थी.

पीएम ने कहा कि बिना भागीदारी के स्वच्छता मिशन पूरा नहीं हो सकता. लोगों के स्वभाव के बारे में कहा कि शौचालय बनाए तो उनमें बकरियां बंधी हुई थी, लेकिन इसके बावजूद काम करना है. समाज का सहयोग जरूरी है. सरकार सोचे कि हम इमारतें बना देंगे और टीचरें दे देंगे तो सबकुछ ठीक हो जाएगा तो ऐसा नहीं है. घरवाले अगर बच्चे को स्कूल भजेंगे नहीं तो शिक्षा का प्रसार कैसे होगा. समाज की भागीदारी बहुत जरूरी है.

बच्चे मेरे स्वच्छता के सबसे बड़े एम्बैसेडर हैं. जो बात बच्चों के गले उतर गई है वह हमें समझ क्यों नहीं आती. पीएम ने कटाक्ष करते हुए कहा कि हाथ धोने की कहते हैं तो कहते हैं पानी नहीं है, भई जिसके पास है वो तो धोए. पीएम मोदी को गाली देने के हजार विषय हैं मैं हर दिन कुछ न कुछ देता हूं, तो देते रहें, लेकिन अपना दायित्व निभाएं.

पीएम मोदी ने कहा कि आज से चार पांच साल पहले टीवी पर कई स्टोरी बनती थी कि स्कूल में बच्चों से सफाई करवाते हैं. आज बदलाव आया है कि किसी स्कूल के बच्चे स्वच्छता अभियान में हिस्सा ले रहे हैं तो टीवी की मेन खबर बन जाती है.

उन्होंने कहा कि स्वच्छता का आंकड़ा तेजी से सुधरा है. उस हिसाब से गति तो ठीक है, लेकिन स्वच्छता के विषय को जब तक उस महिला के नजरिये से नहीं देखेंगे तब तक नहीं समझेंगे. एक घर में सबको कूड़ा-करकट फैलाने का अधिकार है, लेकिन एक मां उसको साफ करती रहती है.

Leave a Reply

Top