You are here
Home > breaking > दोस्ती के प्रस्ताव को कमजोरी न समझे भारत: इमरान खान

दोस्ती के प्रस्ताव को कमजोरी न समझे भारत: इमरान खान

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने रविवार को कहा कि भारत के साथ इस्लामाबाद के दोस्ती के प्रस्ताव को उसकी कमजोरी नहीं समझा जाना चाहिए. उन्होंने भारतीय नेतृत्व को अहंकार त्यागने का अमूल्य सुझाव भी दिया है. साथ ही कहा है कि भारत को पाकिस्तान के साथ शांति वार्ता करनी चाहिए. भारत ने इस महीने न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा के इतर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और उनके पाकिस्तानी समकक्ष शाह महमूद कुरैशी के बीच बातचीत के लिए शुरुआती सहमति भी दे दी थी. भारत ने हालांकि शुक्रवार को जम्मू कश्मीर में तीन पुलिसवालों की ‘नृशंस हत्या और कश्मीरी आतंकवादी बुरहान वानी को महिमा मंडित की जाने वाली डाक टिकटों के जारी होने के बाद इस प्रस्तावित बैठक को रद्द कर दिया था.

खान ने कहा कि दोस्ती के प्रस्ताव को उनकी कमजोरी के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए. पाकिस्तान और भारत के बीच दोस्ती गरीबी से पार पाने में मदद करेगी. खान ने कहा कि पाकिस्तान को ‘‘धमकी नहीं दी जानी चाहिए क्योंकि वह दुश्मनी के किसी भी कृत्य को बर्दाश्त नहीं करेगा.’’ पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कहा कि दोस्ती दोनों ही देशों के हित में है. और वे किसी भी विश्व शक्ति के दबाव में नहीं आएंगे.

Leave a Reply

Top