You are here
Home > breaking > ओडिसी की नृत्यांगना पीहू श्रीवास्तव की ‘लीला निधि’ की प्रस्तुति को देख दर्शक हुए मंत्रमुग्ध

ओडिसी की नृत्यांगना पीहू श्रीवास्तव की ‘लीला निधि’ की प्रस्तुति को देख दर्शक हुए मंत्रमुग्ध

इंडिया इंटरनेशनल सेण्टर के सभागार में मौजूद करीब 200 दर्शक रविवार को उस समय मन्त्र मुग्ध से हो गए जब ओडिसी की युवा नृत्यांगना पीहू श्रीवास्तव ने  ‘भूमि प्रणाम’ कार्यक्रम में अपनी प्रस्तुति दी .

भूमि प्रणाम का आयोजन ओडिसी की मशहूर नृत्यांगना गुरु अल्पना नायक की वरिष्ठ शिष्या पीहू श्रीवास्तव के मंच प्रवेश के लिए किया गया था . हालांकि युवा पीहू की यह पहली एकल नृत्य प्रस्तुति थी ,लेकिन करीब एक घंटे तक पीहू ने अपने सधे हुए बेहतरीन नृत्य कौशल से  दर्शकों को यह महसूस ही नहीं होने दिया कि वो अपनी पहली एकल प्रस्तुति दे रही हैं.

कार्यक्रम की शुरुआत गुरुवंदना से हुयी जब पीहू ने अपनी गुरु अल्पना नायक से आशीर्वाद लिया और फिर मंगलाचरण और खमाज राग पर आधारित खमाज पल्ल्वी की प्रस्तुति दी . ओडिसी नृत्य में सबसे अहम होता है अभिनय जहाँ नर्तक अपने आँखों , हथेलियों और गर्दन की भाव भंगिमाओं से अपने उदगार प्रकट करता है  . पीहू ने अपनी  ‘अभिनय’ कला की दक्षता का परिचय देते हुए ‘लीला निधि’ की प्रस्तुति दी . इसके बाद पीहू ने पद्म विभूषण गुरु केलुचरण महापात्र के द्वारा कोरियोग्राफ किये गए प्रसिद्द ‘दशावतार’ नृत्य की प्रस्तुति दी और अंत में ‘मोक्ष’ की.

अल्पना नृत्य संस्थान से जुड़ी पीहू इससे पूर्व श्रीलंका , गोवा , भुवनेश्वर सहित दिल्ली में कई जगह समूह नृत्य प्रस्तुति दे चुकी हैं और भारत सरकार के संस्थान सीसीईआरटी की प्रतिष्ठित शास्त्रीय नृत्य की स्कालरशिप के लिए भी उन्हें चुना गया है .

भूमि प्रणाम में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र के अध्यक्ष रामबहादुर राय , नेशनल बुक ट्रस्ट के अध्यक्ष बलदेवभाई शर्मा , आईआईएमसी के महानिदेशक के.जी.सुरेश, डीडी न्यूज़ की महानिदेशक वीणा जैन  के अलावा भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा विशिष्ठ अतिथि के तौर पर उपस्थित थे .  इस अवसर पर एक स्मारिका का लोकार्पण भी किया गया , जिसमें पीहू की उपलब्धियों को संगृहीत किया गया है .

Leave a Reply

Top