You are here
Home > breaking > मोदी की बनेगी नई टीम, कई मंत्रियों की छुट्टी, नए चेहरों को मिलेगी कैबिनेट में एंट्री

मोदी की बनेगी नई टीम, कई मंत्रियों की छुट्टी, नए चेहरों को मिलेगी कैबिनेट में एंट्री

नई दिल्ली| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को चीन की यात्रा पर रवाना होने से पहले नई टीम तैयार करने जा रहे हैं. कल यानि शनिवार को मंत्रिमंडल में फेरबदल हो सकता है. इसकी शुरुआत राजीव प्रताप रूड़ी के इस्तीफे के साथ हो गई. रूड़ी कौशल विकास मंत्री थे. पीएम नरेंद्र मोदी इस मंत्रालय को विशेष महत्व देते हैं और यहीं से कई ड्रीम प्रोजेक्ट लांच किए जाते हैं. नरेंद्र मोदी 3 सितंबर को ब्रिक्स सम्मेलन में हिस्सा लेने चीन रवाना होंगे. बताया जा रहा है कि वह इससे पहले ही कैबिनेट फेरबदल का काम पूरा कर लेना चाहते हैं.

फेरबदल में कई दिग्गज मंत्रियों के विभाग बदले जा सकते हैं तो कुछ पुराने मंत्रियों को छुट्टी और कुछ नए चेहरों की एंट्री हो रही है. कुछ मंत्रियों को प्रमोशन दिया जा सकता है. मोदी की नई टीम के गठन के चलते गुरुवार को कुछ मंत्रियों ने इस्तीफा दिया. रेल मंत्रालय की जिम्मेदारी सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी को मिल सकती है. बिजली मंत्री पीयूष गोयल को भी अहम मंत्रालय दिया जा सकता है. वहीं सुरेश प्रभु को दूसरी जिम्मेदारी दी जा सकती है. उन्होंने रेल हादसों के बाद खुद इस्तीफे की पेशकश की थी. कृषि मंत्री राधामोहन सिंह का मंत्रालय भी बदला जा सकता है.

रूड़ी का इस्तीफा

गुरुवार को कौशल विकास मंत्री राजीव प्रताप रूडी, ने इस्तीफा दे दिया है. स्वास्थ्य राज्य मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते और कृषि राज्य मंत्री संजीव बालियान ने भी इस्तीफा दे दिया है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती ने भी स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए इस्तीफे की पेशकश की है. वहीं मानव संसाधन राज्य मंत्री महेंद्र नाथ पाण्डेय को यूपी बीजेपी का चीफ बनाया गया है. उन्हें भी मंत्रिपद से मुक्त किया जा सकता है. हालांकि उन्होंने ऐसे किसी भी सवाल का जवाब देने से इनकार कर दिया.

जेडीयू-एआईडीएमके से भी बनेंगे मंत्री

एआईएडीएमके बीजेपी के करीब आ चुकी है. ऐसे में उसे केंद्रीय मंत्रिमंडल में एक कैबिनेट मंत्री सहित तीन सीटें दी जा सकती हैं. नीतीश कुमार की अगुवाई वाला जनता दल यू अब एनडीए में शामिल हो चुका है. उसे दो सीटें दी जा सकती हैं.

ये हो सकते हैं नए चेहरे

इसके अलावा मध्यम और लघु उद्योग मंत्री कलराज मिश्र को किसी राज्य का गवर्नर बनाया जा सकता है. मिश्र की उम्र 75 साल से ज्यादा है. वहीं संभावित मंत्रियों में अश्विनी चौबे, हेमंत बिस्वा, प्रह्लाद जोशी,भूपेन्द्र यादव, विनय सहस्त्रबुद्धे, हरीश द्विवेदी, सुरेश आंगड़ी और सतपाल सिंह का नाम शामिल है. ख़बरों के अनुसार जिन मंत्रियों काम-काज ठीक नहीं रहा है उनकी छुट्टी हो सकती है और ऐसे मंत्रियों की संख्या 12 के आसपास मानी जा रही है. 2019 आम चुनाव और अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर नए चेहरों को मौका दिया जा सकता है.

अहम मंत्रालयों में फुलटाइम मंत्री नहीं

मनोहर पर्रिकर के गोवा के मुख्यमंत्री बनने के बाद से वित्त मंत्री अरुण जेटली के पास ही रक्षा मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार है. इस समय रक्षा मंत्रालय के अलावा पर्यावरण, शहरी विकास, सूचना एवं प्रसारण जैसे मंत्रालय बिना किसी फुल टाइम मंत्री के हैं. जिन मंत्रियों को हटाया जाएगा उनको संगठन में काम दिया जाएगा. बीजेपी अध्यक्ष ने गुरुवार को हटाये गए मंत्रियों से मुलाकात भी की. इसके अलावा हाल ही में वेंकैया नायडू के उपराष्ट्रपति बन जाने के बाद शहरी विकास मंत्रालय का काम नरेंद्र तोमर के जिम्मे है. वहीं सूचना प्रसारण मंत्रालय का अतिरिक्त काम कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी देख रही हैं.

Leave a Reply

Top