You are here
Home > NEWS > शरारती तत्वों ने तोड़े मिशन ग्रीन फाऊंडेशन द्वारा शहर में रखवाए गमले, प्रशासन से लगाई कार्यवाही की गुहार

शरारती तत्वों ने तोड़े मिशन ग्रीन फाऊंडेशन द्वारा शहर में रखवाए गमले, प्रशासन से लगाई कार्यवाही की गुहार

पर्यावरण संरक्षण में योगदान देने की बजाय कुछ शरारती तत्व पर्यावरण को बचाने के लिए चलाई जा रही मुहिम को ही नुकसान पहुुंचा रहे हैं। यह बात पर्यावरण मिशन ग्रीन फाऊंडेशन के संस्थापक स्वामी सहजानंद नाथ ने कही। उन्होंने बताया कि मिशन ग्रीन फाऊंडेशन द्वारा शहर में रखवाए गए गमलों को शरारती तत्वों या ईष्र्यावश तुड़वाया गया जिससे उन्हें काफी खेद पहुंचा है। स्वामी सहजानंद नाथ ने इसकी एक लिखित शिकायत एसपी को देकर ऐसे तत्वों पर कार्यवाही की मांग की है।

स्वामी सहजानंद नाथ ने कहा कि ऐसे असामाजिक, शरारती ओछी सोच रखने वाले तत्वों के इस निंदनीय कार्य से उन्हें बेहद खेद पहुंचा है क्योंकि पौधों को वे बच्चों की तरह पाल रहे हैं। एक तरफ तो वे पूरे मनोयोग से शहर में पर्यावरण को बढ़ावा देकर उसके सौंदर्यकरण का कार्य कर रहे हैं वहीं कुछ लोग ऐसी हरकतें करके उनकी मुहिम को धक्का पहुंचा रहे हैं ऐसे लोगों के खिलाफ प्रशासन को सख्त से सख्त कार्यवाही करनी चाहिए। शरारती तत्वों ने न केवल गमलों को ईंट मार-मार का बुरी तरह से तोड़ा है बल्कि पौधों को भी उखाड़ कर फेंक दिया है।

उन्होंने कहा कि शहर के हर नागरिक का नैतिक दायित्व बनता है कि पर्यावरण को बचाने में अपना सहयोग दे और गमलों की सुरक्षा खुद करे और उनमें पानी इत्यादि की जरूरत हो तो समय पर दे लेकिन ऐसा करना तो दूर गमलों को इस तरह से तोडऩा बेहद निंदनीय है। गमलों में पौधों को पानी भी उनकी संस्था के लोग मैयड़ से आकर खुद पौधों में देते हैं। स्वामी सहजानंद नाथ ने कहा कि यह जिस किसी भी हरकत हो इससे उन्हें गहरा खेद पहुंचा है क्योंकि अगर कोई शहर के सौंदर्यकरण व पर्यावरण को बढ़ावा नहीं दे सकता तो उसे बिगाडऩे का भी उसे कोई हक नहीं है। ऐसी हरकत से लग रहा है कि या तो लोगों को पर्यावरण पसंद नहीं है या स्वामी सहजानंद नाथ। उन्होंने कहा कि किसी की ऐसी घटिया हरकतों से उनका मिशन रुकने वाला नहीं है और उनका अभियान यूं ही जारी रहेगा क्योंकि लोगों का सहयोग उनके साथ है। उन्होंने पुलिस प्रशासन से ऐसे शरारती तत्वों पर तुरंत कार्यवाही की मांग की है।

 

Leave a Reply

Top