You are here
Home > breaking > मीरा कुमार के आने से कितना बदलेगा राष्ट्रपति चुनाव का गणित ?

मीरा कुमार के आने से कितना बदलेगा राष्ट्रपति चुनाव का गणित ?

विपक्ष ने प्रेसिडेंट इलेक्शन के लिए मीरा कुमार को कैंडिडेट बनाया है। रामनाथ कोविंद की तरह मीरा कुमार भी दलित वर्ग से आती हैं। ऐसे में अब प्रेसिडेंट इलेक्शन दलित v/s दलित हो गया है। NDA अभी भी वोट परसेंटेज के मामले में UPA पर भारी दिख रही है। कोविंद के नाम के एलान के बाद जेडीयू और दूसरी पार्टियों के सपोर्ट से इलेक्टोरल कॉलेज में NDA के वोट 61.89% हो गए हैं। लेकिन, मीरा कुमार को उतारने केबाद अपोजिशन को भी कुछ ऐसी पार्टियों का सपोर्ट कर सकते है

NDA: लोकसभा, राज्यसभा, स्टेट असेंबली को मिलाकर टोटल 5,27,371 वोट होते हैं। कोविंद के एलान से पहले एनडीए का टोटल वोट

पर्सेंटेज 48.10% है।
UPA: साझा कैंडिडेट उतारने की स्थिति में सभी अपोजिशन पार्टियां एक हो जाती हैं तो टोटल वोट 5,68,148 होंगे यानी करीब 51.90%

मीरा कुमार के आने से कितना फ़ायदा  ?

 मीरा कुमार के आने के बाद UPA को BSP ने सपोर्ट कर दिया है। मायावती कह चुकी हैं कि कोई मजबूत दलित कैंडिडेट मिलने पर वो उसे सपोर्ट करेंगीं। SP, AAP और INDL का सपोर्ट मिलने की भी उम्मीद है.

रामनाथ कोविंद vs मीरा कुमार

रामनाथ कोविंद:साधारण छवि, कानून के जानकार, संविधान की समझ (बिहारगवर्नर रहे), कैंडिडेट के तौर पर दलित चेहरा। दो चुनाव लड़े, लेकिन हार गए।

मीरा कुमार:साफसुथरी छवि, कानून की जानकार, संविधान की जानकारी(लोकसभा स्पीकर रहीं)। विदेश नीति की जानकारी (इंडियन फॉरेन सर्विस में रहीं)। दलित चेहरा और पूर्व डिप्टी पीएम जगजीवन राम की बेटी।रामविलास पासस्वान और मायावती जैसे बड़े दलित लीडर्स को चुनाव में हराया। करोलबाग से 3 बार MP भी रहीं।

ऐसे होगा राष्ट्रपति चुनाव
# 4896 वोटर राष्ट्रपति चुनाव में हिस्सा ले सकेंगे। इनमें 4120 MLAs और 776 MPs शामिल हैं।
# 20 AAP के विधायकों के खिलाफ हाउस ऑफ प्रॉफिट के मामले में केस चल रहा है, लेकिन इलेक्शन कमीशन का कहना है कि आज की बात करें तो ये लोग वोट डाल सकेंगे।
# 12 नॉमिनेटेड राज्यसभा मेंबर्स भी वोट नहीं डाल सकेंगे। इसके अलावा, लोकसभा में दो एंग्लो-इंडियन कम्युनिटी के नॉमिनेटेड मेंबर्स भी वोट नहीं डाल सकेंगे।
# 10 खाली सीटें हैं राज्यसभा की, जिनके लिए चुनाव की घोषणा राष्ट्रपति चुनाव के बाद ही की जाएगी।

कितने वोट जरूरी
– किसी भी दल को अपनी पसंद का प्रेसिडेंट बनाने के लिए 50% यानी 5,49, 442 वोटों की जरूरत है।
– टोटल MLAs: 4114
– टोटल MPs: 776
– MLAs की वोट वैल्यू: 5,49,474
– MPs की वोट वैल्यू: 5,48,408
– टोटल वोट वैल्यू: 10,98,882

 

अमन शर्मा  

 

 

 

Leave a Reply

Top