You are here
Home > HOME > किसकी होगी MCD- 2017- जनता की राय

किसकी होगी MCD- 2017- जनता की राय

बोल बिंदास-

दिल्ली नगर निगम के चुनाव में प्रचार जोर शोर से चल रहा है. सभी प्रमुख दलों के प्रत्याशी अपने समर्थकों के साथ जनता के दरबार में पसीना बहा रहे हैं. सभी को मालूम है कि एक बार जीत गए तो बस फिर क्या मामला उल्टा, फिर नेता आगे आगे जनता पीछे. तो इस समय वो कोई कोर कसर नही छोड़ना चाहते. जनता इस समय माई बाप है, बस एकमात्र लक्ष्य किसी तरह से उसे साध लो. बोल बिंदास की टीम भी जनता के बीच घूम रही है और उसके मिजाज़ का पता लगाने की कोशिश कर रही है. जनता की राय क्या है ये हम आपको आगे बतायेंगे.

कहां जाये तो ये चुनाव आम आदमी पार्टी के लिए साख का सवाल है. पंजाब और गोवा में मिली करारी हार के बाद उसके लिए निगम का चुनाव जीतना बेहद ज़रूरी है. अगर वो ये चुनाव जीत जाती है तो वो कह सकती है कि जनता उसके सरकार चलाने के तौर तरीकों से खुश है और अगर कहीं हार जाती है तो उसके कामकाज पर भारी सवाल खड़े हो जायेंगे. फिल्हाल पार्टी अंदरूनी और बाहरी दोनो मोर्चों पर संघर्ष कर रही है.

भाजपा ने नए चेहरों को मैदान में उतारकर बहुत बड़ा दाव खेला है. पार्टी के अध्यक्ष मनोज तिवारी के काम करने के तरीकों पर सवाल खड़े किए जा रहे है. अभी ये सवाल पार्टी के अंदरूनी गलियारों में उठ रहे हैं, सवाल खड़े करने वाले चुनावों के नतीजों का इंतज़ार कर रहे हैं. भाजपा को विजय हासिल होती है तो मनोज तिवारी का दबदबा पार्टी में और बढ़ेगा और कहीं पार्टी चुनाव हारती है तो मामला मनोज तिवारी के लिए आसान नही रहेगा.

कॉंग्रेस पंजाब की जीत से उत्साहित है. उसे इस बार बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है. यहां भी पार्टी के अध्यक्ष अजय माकन की प्रतिष्ठा दाव पर लगी हुयी है. टिकटों के वितरण में उन पर भी गंभीर आरोप लगे है. अगर माकन कॉंग्रेस को निगम में जीत दिलाने में सफल हो जाते है तो उनका कद पार्टी में बढ़ जायेगा.

बोल बिंदास की टीम ने जनता का मन टटोलने की कोशिश की. हालांकि जनता आजकल बहुत होशियार हो गयी हैं वो अपनी राय को मतदान के लिए बचाके रखती है. इसलिए अक्सर ओपिनयन पोल के नतीजे गड़बड़ा जाते हैं. खैर बोल बिंदास की टीम ने 8 तारीख से लेकर 11 तारीख तक जनता के मन को भांपने की कोशिश की है. अगर आज चुनाव हो जायें तो आम आदमी पार्टी के सपनों पर झाड़ू फिरती नज़र आ रही है, कॉंग्रेस का हाथ पहले से मजबूत होगा लेकिन सत्ता की कुर्सी उसके हाथ में आती नही दिखायी दे रही है. फिलहाल अभी तक के अनुमान के अनुसार तीनो निगमों पर भाजपा का कब्ज़ा होता दिखायी दै रहा है. तीनों निगमों में पार्टियों की स्थिति कुछ यूं रह सकती है.

उत्तरी नगर निगम (104)
ओपिनियन पोल 2017
BJP-51
INC-17
AAP-28
OTH-08

दक्षिणी नगर निगम (104)
ओपिनियन पोल 2017

पूर्वी नगर निगम (64)
ओपिनियन पोल 2017

अभी जैसे जैसे चुनाव प्रचार आगे बढ़ेगा. तस्वीर और साफ होगी.
बोल बिंदास ब्यूरो

Leave a Reply

Top