You are here
Home > MANORANJAN > भारत का पहला ट्रांसजेंडर ब्यूटी पेजेंट : क्वीन ऑफ़ ध्यावह

भारत का पहला ट्रांसजेंडर ब्यूटी पेजेंट : क्वीन ऑफ़ ध्यावह

ट्रांसजेंडर समुदाय को सशक्त बनाने और प्रोत्साहित करने के लिए केरल हमेशा से एक कदम आगे रहा है। सरकारी नौकरियों को शुरू करने और ट्रांसजेंडर्स के लिए एक एथलेटिक मीट को होस्ट करने के बाद, केरल ने हाल ही में ट्रांसजेंडर्स के लिए भारत की पहली सौंदर्यप्रतियोगिता यानी फर्स्ट ब्यूटी पेजेंट फॉर ट्रांसजेंडर्स होस्ट किया।

ध्यावह कला और सांस्कृतिक सोसाइटी द्वारा आयोजित, इस इवेंट का उद्देश्य समाज में तीसरे लिंग को शामिल करने के महत्व पर जोर देना था।शीतल श्याम, ट्रांसजेंडर कार्यकर्ताओं में से एक, इंटरव्यू के दौरान कहा,-“Our attempt is to bring more transgenders to the mainstream of society and help them find jobs and means of livelihood.”(हमारा प्रयास है कि ट्रांसजेंडर्स को  समाज की मुख्य धारा में लाने के लिए नौकरियां और आजीविका के साधन खोजने में उनकी मदद करना।)

इसके लिए, 15 जून को एर्नाकुलम में नेडुंबेश्ररी के CIAL कन्वेंशन सेंटर में सुंदरता प्रतियोगिता आयोजित की किया गया था। इस इवेंट में पार्वती ओमानकुट्टन, राम्या  नाम्बिशन, मधु, साधिका, मुक्ता, शामना कासिम, कृष्ण प्रभा, और गायिका रिमी टॉमी जैसे प्रमुख अभिनेता उपस्थित थे।

पंद्रह प्रतिभागियों ने एक न्यायिक पैनल से पहले खचाखच लोगों से भरे हुए हॉल में रैंप वॉक किया था , न्यायिक पैनल में रंजिनी हरिदास, मिस इंडिया 2008; पार्वती ओमानकुट्टन; डॉ पॉल मणि और AHF इंडिया के डॉ सैम शामिल थे। प्रतियोगिता में व्यंग डालते हुए, प्रतियोगियों के लिए अंतिम सवाल यह था कि ‘यदि आप एक बच्चे को अपनाना चाहते हैं, तो आप किस लिंग को पसंद करेंगे? लड़काया लड़की?’

प्रतियोगिता के विजेता श्यामा ने कहा कि वह एक लड़के को अपनाना चाहेंगी।

25 वर्षीय, मलयालम में पोस्टग्रेजुएट श्यामा पहले व्यक्ति है जिन्हे कुछ हफ्ते पहले  ही ट्रांसजेंडर के लिए राज्य सरकार छात्रवृत्ति मिली है।इन्होने कहा-“Compared to women, men harass transgender persons more, so I would like to adopt a boy and teach him how to respect transgender persons, and how they are equal to others. Let him grow up by learning to respect all equally.”(महिलाओं के मुकाबले, पुरुष ट्रांसजेंडर्स को अधिक परेशान करते हैं, इसलिए मैं एक लड़के को अपनाना चाहूंगी और उसे सिखाना चाहूंगी कि ट्रांसजेन्डर लोगों का सम्मान कैसे करते है, और वे दूसरों के समान कैसे हैं। सभी लिंग को  एक समान रूप से सम्मान देना सिखाऊंगी।)

इस इवेंट का उद्घाटन CPI (M) राज्य सचिव कोदियारी बालाकृष्णन ने किया था। राज्य स्वास्थ्य मंत्री के के शैलजा भी समारोह में शामिल हुई।

– साक्षी दीक्षित

Leave a Reply

Top