You are here
Home > NEWS > पेड़ों को बचाने के लिए मिशन ग्रीन फाऊंडेशन ने शुरू किया अभियान

पेड़ों को बचाने के लिए मिशन ग्रीन फाऊंडेशन ने शुरू किया अभियान

मिशन ग्रीन फांउडेशन ने पेड़ों की कटाई व शहर में पेड़ों के चारों ओर सीमेंटिड ब्लॉक बनाने से जलकर सूख रहे पेड़ों को बचाने के लिए एक अभियान की शुरूआत की है जिसके लिए फाऊंडेशन के के ऊँ सिद्ध महामृत्युंजय अंतर्राष्ट्रीय योग एवं ज्योतिष अनुसंधान केंद्र के संस्थापक व महामृत्युंजय चालीसा के रचयिता स्वामी सहजानंद नाथ ने उपस्थित ने प्रदेश के पर्यावरण मंत्री विपुल गोयल को पत्र सौंपा। वहीं स्थानीय प्रशासन से मिलकर भी पेड़ों के चारों तरफ से सीमेंटिड ब्लॉक हटाने की मांग की। इसके लिए स्वामी सहजानंद नाथ निगम कमीशर से मिले और उन्हें इस गंभीर स्थिति से अवगत करवाया।

इस पर निगम कमीशर ने कहा कि कि आप ऐसे पेड़ों को चिन्हित कर लिजिए हम उनसे सीमेंटिड ब्लॉक्स हटवा देंगे जिस पर स्वामी सहजानंद नाथ ने निगम परिसर में ही सीमेंटिंड ब्लॉक की भेंट चढ़ चुके दर्जन भर पेड़ निगम के कर्मचारी को दिखाए जिससे निगम अधिकारियों को सीमेंटिड ब्लॉक पेड़ों के लिए कितने खतरनाक हैं इसका प्रमाण वहीं मिल गया। सहजानंद नाथ ने बताया कि इस संबंध में वे उपायुक्त सहित अन्य उच्चाधिकारियों से भी मिले लेकिन अभी तक कोई ठोस कार्यवाही इस मामले में नहीं की गई है। उन्होंने कहा कि एक पौधे को पेड़ बनने में वर्षों लग जाते हैं लेकिन शहर में जगह-जगह पेड़ों को सीमेंट ब्लॉक से कवर कर दिया गया है जो उन्हें धीरे-धीरे नष्ट कर देता है जिसकी भेंट शहर में सैकड़ों पेड़ चढ़ चुके हैं। हमें तुरंत इस गंभीर समस्या की ओर ध्यान देना है क्योंकि धीरे-धीरे हमारे चारों और खाली जमीन कंकरीट का रूप लेती जा रही है जिससे सभी पेड़ इसका शिकार होते चले जाएंगे। इसके लिए जिला प्रशासन को गंभीरता से कदम उठाते हुए पेड़ों पर से सीमेंटिड ब्लॉक हटाने की जरूरत है। जिस पर निगम अधिकारियों ने जल्द ही सीमेंट हटाने की बात कही है।


सहजानंद नाथ ने बताया कि वहीं मिशन ग्रीन फाउंडेशन द्वारा शहर में घरों, दुकानों व व्यवसायिक प्रतिष्ठानों में लोगों को गमले में पौधे लगाकर नि:शुल्क वितरित किए जाएंगे और सभी से अनुरोध व अपील की जाएगी कि वे उस गमले में लगे पौधे की देखभाल कर उसे बड़ा करें और जब वह बड़ा हो जाए तो उसे किसी पार्क इत्यादि में लगाएं। इससे लोगों में पेड़-पौधों व पर्यावरण के प्रति जागरुकता बढ़ेगी और पर्यावरण संरक्षण में अधिक से अधिक लोगों का योगदान होगा। उन्होंने कहा कि पेड़ों से ही यह सृष्टि जीवित और हरी-भरी है यदि पेड़ नहीं होंगे तो हम नहीं होंगे। इसलिए हर किसी को पर्यावरण संरक्षण व पेड़-पौधों को लगाने व उन्हें बचाने में अपना योगदान देना चाहिए।

Leave a Reply

Top