You are here
Home > NEWS > देश आजादी के समय खादी और अब स्वदेशी खाद से सम्पन्न व विकसित और अर्थव्यवस्था में मजबूत होगा भारतवर्ष – कश्मीरीलाल

देश आजादी के समय खादी और अब स्वदेशी खाद से सम्पन्न व विकसित और अर्थव्यवस्था में मजबूत होगा भारतवर्ष – कश्मीरीलाल

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अनुषांगिक स्वदेशी संगठन स्वदेशी जागरण मंच दिल्ली प्रान्त के आह्वान पर स्वदेशी जागरण मंच यमुना विहार विभाग व पूर्वी विभाग द्वारा भारतीय व्यापार व स्वदेशी वस्तुओ को पुर्नजीवित करने तथा  विदेशी कंपनी वालमार्ट द्वारा स्वदेशी कम्पनी  फ्लिपकार्ट को खरीदने व चीन , अमेरिका देशो सहित कई विदेशी कम्पनियो  द्वारा भारतीय उधोगों को चौपट कर भारतीय अर्थव्यवस्था को समाप्त कर देने को लेकर जोहरीपुर गांव व आर्य गीता स्कूल कृष्णा नगर  में एक स्वदेशी महासम्मेलन का आयोजन किया गया । महासम्मेलन की अध्यक्षता मंच के दिल्ली प्रान्त राज्य परिषद सदस्य व निगम के पूर्व जोन चेयरमैन संजय कौशिक व दिल्ली- हरियाणा प्रान्त के सँघर्ष वाहिनी प्रमुख विकास चौधरी ने की ।इस अवसर पर मुख्य वक्ता संघ के अखिल भारतीय प्रचारक ( संगठक ) श्री कश्मीरीलाल जी , दिल्ली- हरियाणा के प्रान्त प्रचारक श्री कमलजीत जी , संघ के यमुना विहार विभाग के विभाग प्रचारक श्रवण जी उपस्थित थे ।

संघ के स्वयंसेवको व स्थानीय लोगो को सम्बोधित करते हुए अखिल भारतीय प्रचारक कश्मीरीलाल जी ने कहॉ कि आज 21वी शदी के दूसरे दशक में हम जिस तरह से रसायनिक खाद जर्सी , होलिसिटन और विदेशी वस्तुओ पर आश्रित होते जा रहे है उससे जो द्रश्य उभरकर आ रहा है कि हमारी भूमि की उर्वराशक्ति नष्ट हो रही है और शहरों व गांवो से भी असाध्य रोग नए नए रूप से निकलकर आ रहे है और कैंसर जैसे भयानक रोग सम्पूर्ण भारत मे व्याप्त हो है श्री कश्मीरीलाल जी ने कहा कि ऐसे समय मे यह संकल्प लेने की जरूरत है कि हर शहरों, गांवो व घर अपने को देशी गाय से जोड़े और रसायनमुक्त खाद का प्रयोग अपने बगीचों , खेती में करे तथा अपने दरवाजे व बगीचे में औषध व्रक्ष का पोषण करे और अपने शहरों व गांवो के मंदिरों से शिक्षा , स्वास्थ्य और परोपकार के अनेक कार्यक्रम करे साथ ही हर घर मे हस्तनिर्मित उधमिता का विकास हो और जब भी बाजार से सामान लाए वह अपने देश का बना हुआ हो स्वदेशी का उद्देश्य यह है कि हर घर में कम से कम एक देशी गाय होनी चाहिए उसका दूध अमृत के सामान है तथा गाय का गोबर ( खाद ) से हम अपने बगीचों , खेतो को सही खाद दे सके तो भारत का हरेक व्यक्ति स्वस्थ रहेगा और हमारी अर्थव्यवस्था भी मजबूत होगी । उन्होंने कहा कि इसके लिए संघ परिवार व स्वदेशी जागरण मंच ने प्रत्येक शहरों गांवो में ग्रामोदय यात्रा के माध्यम से देशवासियों को जागरूक करने का बीड़ा उठाया है उन्होंने कहा कि 1947 में आजादी के समय स्वतंत्रता सेनानियों ने  खादी का नारे की शुरुआत कर देश को स्वतंत्रता दिलाई वर्तमान में हमारा देश विदेशी जहरीले रासायनिक तत्वों से जकड़ता जा रहा है इसके लिए संघ परिवार ने तब खादी अब खाद का आंदोलन करने का आह्वान किया है जिसकी शुरूआत उत्तर प्रदेश के बलिया से शुरू हो चुकी है ।

इस अवसर पर दिल्ली-हरियाणा के प्रान्त प्रचारक कमलजीत जी ने कहा कि देशी भैस, गाय रखने से हम स्वदेशी माध्यम से जीरो बजट की खेती भी कर अपने घर , देश व अपने व्यापार को बढ़ा सकते है जीरो बजट की खेती से फसल का विकास होगा साथ ही बी पी , कैंसर जैसे रोग अपने आप ही खत्म हो जाएंगे प्रत्येक व्यक्ति, हर शहर- गांव विकसित होगा स्वस्थ होगा उन्होंने कहा कि जो लोग गाय के नाम पर भीड़ का हिस्सा बनकर निर्दोष लोग को मार रहे है वह मानवता के नाम पर कलंक है उन्होंने ऐसे लोगो को कठोर दंड देने की मांग नरेंद्र मोदी की सरकार से की ।

इस अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ यमुना विहार विभाग के प्रचारक श्रवण जी ने कहा कि देश की ई कॉमर्स की बड़ी प्रतिष्ठित कंपनी फ्लिपकार्ट का अमेरिका की कंपनी वालमार्ट द्वारा अधिग्रहण यह कोई 15 बिलियन डॉलर या कहिए 100 अरब रुपए की डील है जो कि दुनिया के ई कॉमर्स के इतिहास की सबसे बड़ी डील है और यह डील ना तो देश हित में है ना स्वदेशी हित में और ना ही यह कानूनी है और ना ही नैतिक ! ई कॉमर्स या मल्टी ब्रांड रिटेल में कोई विदेशी कंपनी व्यापार कर ही नहीं सकती ।अतः हम सब इसका पूर्णत्य विरोध कर इस समझौते को तुरन्त सरकार से रद्द करने का देशव्यापी अभियान छेड़े । इस अवसर पर मंच के प्रांत संयोजक सुशील पंचाल, प्रान्त मीडिया समन्वय प्रमुख ताराचंद उपाध्याय, महिला प्रमुख गीता गोस्वामी, शशि प्रभा, मनीष कौशिक, वीरसेन, डॉक्टर राजीव, संगीता शर्मा, मंगल मिश्रा, मनोरमा कश्यप, मुकेश मास्टर, अशोक माहोर, आर्य गीता स्कूल के प्रधानाचार्य रामस्वरूप, दिनेश बघेल, राजेश सहित संघ परिवार के स्वयंसेवक, स्वदेशी कार्यकर्ता व विभिन्न समाजों के गणमान्य व्यक्ति तथा स्कूल के विधार्थी उपस्थित थे |

Leave a Reply

Top