You are here
Home > HOME > “उर्दू में रामकथा – इमाम-ए-हिंद: राम का होगा मंचन”

“उर्दू में रामकथा – इमाम-ए-हिंद: राम का होगा मंचन”

img_4280

इतिहास में पहली बार रामकथा का मंचन उर्दू में किया जाएगा । नई दिल्ली के कॉन्स्टिट्यूशन क्लब में डॉ. मोहम्मद अलीम द्वारा लिखित नाटक इमाम -ए- हिंद : राम के देश के सौ शहरों में मंचन का ऐलान किया गया । रविवार 1 सितम्बर 2019 को इमाम-ए-हिंद: राम (नाटक) पुस्तक का विमोचन हुआ । अदबी कॉकटेल एवं डायलॉग इनिशिएटिव फाउंडेशन द्वारा इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित संवाद कार्यक्रम में पुस्तक विमोचन तथा नाटक के मंचन की घोषणा की गई । इस अवसर पर “इमाम-ए-हिंद : राम – सबके राम” विषय आधारित संवाद आयोजित किया गया । इस संवाद में मुख्य वक्ता के तौर पर बोलते हुए पूर्व केन्द्रीय मंत्री, प्रख्यात चिंतक श्री आरिफ मोहम्मद खान ने कहा कि संस्कृति का ताल्लुक आस्था से नहीं होता है, संस्कृति का ताल्लुक वातावरण, जलवायु, सभ्यता और आसपास की भौगोलिक परिस्थितियों से होता है। कबीर के राम घट-घट में थे, वाल्मीकि के राम मर्यादा पुरुषोत्तम राम थे। सब एक डोर से बंधे हुए हैं। हमें इसी डोर को मज़बूत करना है।

20190901042702_img_4302-jpg

बेबाकी से अपनी बात रखने वाले श्री आरिफ मोहम्मद खान ने इस अवसर पर कहा “खुदा ने जब इंसानी पुतलों में रूह फूंकी तो वो  सिर्फ़ मुसलमानों के जिस्म नहीं बल्कि सभी इंसानों के थे।” 
अदबी कॉकटेल एवं डायलॉग इनिशिएटिव फाउंडेशन के सहयोग से प्रस्तुत वाल्मीकि रामायण पर आधारित ये नाटक अपनी तरह का पहला प्रयास है। उर्दू भाषा में इससे पहले नाटक के तौर पर राम कथा कहीं नहीं दिखाई देती है। 
राम भारत के जन-जन में रचे बसे हुए हैं। आप चाहें तो उन्हे ईश्वर मानिए, या फिर उसका अवतार या उन्हें अयोध्या के राजा मर्यादा पुरुषोत्तम राम के रूप में देखिए, राम भारत के करोड़ों लोगों की आस्था-विश्वास-श्रृद्धा का केन्द्र हैं। आप भारत की मिट्टी से राम को अलग नहीं कर सकते। राम हमारी संस्कृति का अभिन्न हिस्सा हैं। 
कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के तौर पर उपस्थित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्र. टी.वी कट्टीमनी ने इस अवसर पर कहा कि लोग प्रश्न करते हैं कि आदिवासी हिंदू हैं या नहीं तो मैं कहना चाहता हूँ कि सभी आदिवासी भाषाओं में राम लक्ष्मण और सीता शब्द मौजूद हैं।”

img_4349

प्रख्यात चिंतक एवं पूर्व सांसद डॉ महेश चंद्र शर्मा ने अपने अध्यक्षीय भाषण में इस प्रयास की तारीफ करते हुए कहा कि यह पूछना ही सही नहीं कि राम किस धर्म के हैं। राम तो यहां के कण-कण में हैं, हर व्यक्ति में हैं। राम सबके हैं। और इसीलिये इमाम ए हिंद जैसे प्रयास होते रहने चाहिए। 
कार्यक्रम में  इमाम-ए-हिंद: राम  नाटक पर विशेष टिप्पणीकार प्रो. बिस्मिल्ला ने कहा कि दुनिया के कम से कम चौदह देशों में रामलीला खेली जाती है इसलिए डॉक्टर अलीम का लिखे नाटक इमाम ए हिंद का मंचन  सिर्फ़ भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया भर में किया जाना चाहिए।

img_4326

नाटक के लेखक डॉ अलीम ने इसके भरत मिलाप प्रसंग एक भाग का वाचन भी किया। डायलॉग इनिशिएटिव फाउंडेशन के संस्थापक न्यासी डॉ. राकेश ने संवाद कार्यक्रम की भूमिका रखते हुए कहा कि भारत की पुण्यभूमि पर मर्यादा पुरुषोत्तम राम जाति-धर्म-क्षेत्र की विविधताओं के बावजूद आदर्श के रूप में सदैव स्वीकार्य रहे हैं । प्रसिद्ध शायर अल्लामा इकबाल की नज्म इस बात का सशक्त उदाहरण है जिसमें वे राम को इमाम-ए-हिंद कहकर संबोधित करते हैं ।

img_4351

अदबी कॉकटेल के श्री अतुल गंगवार ने बताया कि आने वाले दिनों में  इमाम-ए-हिंद: राम के मंचन की तैयारी चल रही है। इस नाट्य मंचन का निर्देशन प्रख्यात निर्देशक मुश्ताक काक कर रहे हैं। श्री गंगवार ने बताया कि अदबी कॉकटेल की कोशिश होगी कि इमाम-ए-हिंद: राम नाटक कश्मीर से कन्याकुमारी और बाड़मेर से बरक तक भारत के जन-जन तक पहुँचाया जाए। इस मंचन श्रंखला की शुरुआत इसी वर्ष दिल्ली से की जाएगी ।

img_4162
Top