You are here
Home > breaking > समाज के सभी घटक स्वस्थ हो (सर्वे संतु निरामया )-विजया शर्मा

समाज के सभी घटक स्वस्थ हो (सर्वे संतु निरामया )-विजया शर्मा

राष्ट्र सेविका समिति के तत्वाधान में शरण्या संगठन ने दिनांक 28.1 .18 को अंबेडकर बस्ती, झंडेवालान ,करोल बाग में स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया जिसमें सुनीता भाटिया प्रांत कार्यवाहिका , अधिवक्ता प्रेरणा (संयोजिका )नशा मुक्ति केंद्र व ई.एस.आई अस्पताल तथा मौलाना आजाद अस्पताल के अनुभवी डॉक्टरों ने सेवा कार्य किया।

राष्ट्रीय सेविका समिति की प्रांत प्रचारिका विजया शर्मा जी ने कार्यक्रम का आरंभ समिति के परिचय के साथ किया कि राष्ट्र सेविका समिति विगत कई वर्षों से समाज सेवा के कार्य में लगी है तथा स्वास्थ्य शिविर इसी कार्य की एक कड़ी है ।उन्होंने राष्ट्र सेविका समिति का संक्षेप में परिचय दिया कि 1936 में स्थापित समिति लगातार अनवरत देश सेवा में महिला सशक्तिकरण के बोध का कार्य निर्बाध रुप से कर रही है। समाज के सभी घटक स्वस्थ होतभी वे देश के उत्थान व विकास में सहयोग दे पाएंगे। यह स्वास्थ्य शिविर भी इसी बात को ध्यान में रखते हुए सभी लोगों को मुख्यधारा से जोड़ पाए और समाज में महिला भी स्वस्थ हो जिस तरह शरीर में अगर पर्याप्त मात्रा में खून हो तो वह व्यक्ति को स्वस्थ रखता है उसी तरह से समाज के सभी घटक स्वस्थ होंगे तो समाज भी स्वस्थ होगा।

शरण्या संगठन की सह सचिव श्रीमती शकुन ने कहा कि महिला परिवार की रीढ़ की हड्डी है उसी के सहारे परिवार व समाज को संबल मिलता है इसलिए परिवार की सबसे मजबूत कड़ी को स्वास्थ्य सेवा देने के लिए ही शरण्या ने स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया है।

इस शिविर में मौलाना आजाद अस्पताल से दंत चिकित्सक डॉक्टर ज्ञानेंद्र ,डॉक्टर अरशद, डॉक्टर रमन ,डॉक्टर नरेश (मेडिसन )थे।ई.एस.आई. अस्पताल से स्त्री रोग विशेषज्ञा डॉक्टर तरु गुप्ता तथा मनोवैज्ञानिक डॉक्टर प्रीति गुप्ता, डॉक्टर शिल्पी (दंत चिकित्सक) भी रही। इन सभी डॉक्टरों ने इस सेवा कार्य में निस्वार्थ भाव से हिस्सेदारी ली ।शरण्या विगत कई वर्षों से महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में काम कर रही है ।शरण्या द्वारा शादीपुर डिपो ,मानसरोवर गार्डन ,शाहजहांपुर जाट में सिलाई केंद्र व संस्कार केंद्र चलाए जा रहे हैं। इससे पहले भी इन्होंने कई बस्तियों में जा जाकर गरीब लोगों के लिए स्वास्थ्य शिविरों का आयोजन किया है यहां इस स्वास्थ्य शिविर में बहुत सी महिलाओं और बच्चों को देखा गया ।ज्यादातर महिलाएं घुटनों के दर्द. तथा तथा शरीर की कमजोरी की शिकार दिखीं। शरण्या द्वारा विगत में भी ऐसे कई स्वास्थ्य केंद्र शिविर लगाए गए हैं ताकि समाज के निम्न मध्यम वर्ग को भी स्वास्थ्य सेवाएं मिले। कई लोगों से बात करने पर पता चला कि वे चाहते हैं कि सोमवार के दिन इस तरह के शिविर का आयोजन किया जाए क्योंकि इस दिन ज्यादातर लोगों की छुट्टी रहती हैं तथा आंखों का कैंप भी लगाया जाए 1लोगों से बात करने पर पता चला कि वे ड्रग्स से मुक्ति के लिए भी इस शिविर का सहारा चाह रहे थे ।बीमार लोगों में काफी उत्साह दिखा वे इस बात से खुश थे कि उनके स्वास्थ्य की चिंता करते हुए स्वास्थ्य शिविर लगाया गया है ।लगभग 300 लोगों ने इस स्वास्थ्य शिविर का लाभ उठाया जहां ब्लड प्रेशर, शुगर, हिमोग्लोबिन के टेस्ट के साथ साथ अनुभवी डॉक्टरों को दिखाने का भी उन्हें मौका मिला

Leave a Reply

Top