You are here
Home > breaking > यारा तेरी यारी को मैंने तो खुदा माना: Friendship Day-History

यारा तेरी यारी को मैंने तो खुदा माना: Friendship Day-History

दोस्ती का रिश्ता इस दुनिया में सबसे खास रिश्ता होता है। यह एक ऐसा रिश्ता है जिसे खून के रिश्ते की जरूरत नहीं होती। जरा सोच कर देखिए, अगर दोस्ती ना होती तो हम सब कैसे रह पाते ? एक सच्चेदोस्त के बिना ये जीवन अधूरा है। वैसे तो दोस्तों के साथ हर दिन फ्रेंडशिप डे होता है। लेकिन  हर साल अगस्त महीने के पहले रविवार को दुनिया भर में फ्रेंडशिप डे मनाया जाता है। इस दिन दोस्त अपनीदोस्ती का इजहार करते हैं।

आखिर क्या है फ्रेंडशिप डे का इतिहास ?

कहा जाता है कि प्रथम विश्व युद्ध के बाद लोगों और देशों के बीच आपसी द्वेष, शत्रुता और नफरत की भावना ने जन्म ले लिया था इसे समाप्त करने के लिए 1935 अमेरिकी सरकार ने फ्रेंडशिप डे की शुरुआतकी थी उस समय ये तय किया गया कि अगस्त के पहले रविवार को इसे मनाये जाने की घोषणा की थी। इस अवसर पर दोस्तों को फ्रेंडशिप बैंड, कार्ड, गिफ्ट्स दिए जाते हैं। साल 1958 के 30 जुलाई को औपचारिक रूप से अंतरराष्ट्रीय फ्रेंडशिप डे (विश्व मैत्री दिवस) की घोषणा की गई थी। फ्रेंडशिप डे सेलिब्रेशन के 10वें साल के मौके पर फेमस बैंड बीटल्स ने 1967 में एक गाना रिलीज किया था- With Little Help From My Friends…. यह गाना दुनियाभर में लोगों के बीच काफी फेमस हुआ था।

वर्ल्डस  एम्बेसडर  ऑफ़  फ्रेंडशिप

आपको बता दें साल 1997 में मिल्न के कार्टून किरदार विन्नी द पूह को संयुक्त राष्ट्र ने दोस्ती का अंतराष्ट्रीय दूत चुना।

अन्य देश में  फ्रेंडशिप डे

भारत में अगस्त के पहले रविवार को फ्रेंडशिप डे मनाया जाता है, लेकिन दक्षिण अमेरिकी देशों में जुलाई महीने को काफ़ी पावन माना जाता है, इसलिए जुलाई के अंत में इस दिन को मनाया जाता है। बांग्लादेशऔर मलेशिया में डिजिटल कम्यूनिकेशंस के तहत यह दिन ज्यादा चर्चित हो गया। यूनाइटेड नेशंस ने भी इस दिन पर अपनी मुहर लगा दी थी। ब्राजील, अर्जेंटीना, इक्वाडोर और उरुग्वे जैसे देशों में हर साल 20 जुलाई को फ्रेंडशिप डे मानते है।

बॉलीवुड में फ्रेंड्स फिल्म

बॉलीवुड में दोस्ती को काफी अहम दर्जा दिया गया है| जिस पर बेहतरीन फिल्म बनाई गई है| इनमें खास है:- ‘दोस्ती’, आनंद, शोले ,याराना और दिल चाहता है।

दोस्ती में कमाल की बात ये है कि इसका कोई मजहब नहीं होता | हम चाहे किसी से भी कही भी दोस्ती कर सकते हैं | बिना किसी शर्तों के, बिना किसी बंधन के हम किसी को भी अपना दोस्त बना सकते हैं। और यह रिश्ता ज़िंदगी भर साथ रहता है।

 

-साक्षी दीक्षित 

Leave a Reply

Top