You are here
Home > NEWS > अरुण जेटली ने की नोटबंदी की तारीफ, मनमोहन सिंह की बातों का दिया जवाब

अरुण जेटली ने की नोटबंदी की तारीफ, मनमोहन सिंह की बातों का दिया जवाब

नई दिल्ली। नोटबंदी की सालगिरह से एक दिन पहले कांग्रेस ने मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा। इसके जवाब में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नोटबंदी के फायदे गिनाते हुए कांग्रेस को जमकर आड़े हाथ लिया। नोटबंदी की पहली वर्षगांठ से एक दिन पहले जेटली ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि वपक्षी पार्टियां नोटबंदी को लेकर लोगों को गुमराह कर रही है। एंटी-ब्लैक मनी एक नैतिक कदम है। लूट तो वह होती है जो 2जी, सीडब्ल्यूजी में हुआ। कांग्रेस लगातार नोटबंदी को लूट बताती आ रही है। इसके जवाब में जेटली ने कांग्रेस के घोटाले का जिक्र किया।

जेटली कहा कि नोटबंदी के कारण टेरर फंडिंग पर लगाम लगी। नोटबंदी एक समाधान है और इससे सारी समस्याएं खत्म हो जाएंगी ऐसा नहीं है लेकिन इससे एजेंडा बदला है। 2014 में सरकार बनने के बाद हमारी सरकार ने काले धन के खिलाफ एक के बाद एक कदम उठाएं है। कैश कम होने से भ्रष्टाचार कम हो जाएगा ऐसा जरूरी नहीं है लेकिन कठिन जरूर हो जाएगा। नोटबंदी भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए एक ऐतिहासिक घटना थी।

जेटली ने कहा नोटबंदी से टैक्स का दायरा भी बढ़ा है। आम लोगों के साथ-साथ संस्थानों पर भी शिकंजा कसा गया। जेटली ने कहा इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 1150 शेल कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई की जिनका 22,000 बेनेफिशअरीज ने 13,300 करोड़ रुपये के काले धन को सफेद करने में किया। इससे पहले गुजरात चुनाव प्रचार के लिए अहमदाबाद गए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने नोटबंदी को सरकार की सबसे बड़ी भूल बताते हुए दोहराया कि यह एक संगठित लूट थी। उन्होंने कहा, मैंने जो संसद में कहा था, उसे दोहराता हूं। यह एक संगठित और वैधानिक लूट थी। पूर्व प्रधानमंत्री ने जीएसटी पर भी सरकार को घेरा।

मनमोहन सिंह ने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी देश की अर्थव्यवस्था के लिए पूरी तरह घातक साबित हुई। इस फैसले ने छोटे उद्यमों की कमर तोड़ दी। मनमोहन ने कहा, कल (8 नवंबर 2017 को) हम उस विनाशकारी नीति का एक साल पूरा कर रहे हैं जो हमारे देश की जनता पर थोपी गई थी। 8 नवंबर देश की अर्थव्यवस्था के लिए तो काला दिन था ही, यह लोकतंत्र के लिए भी एक काला दिन था। उन्होंने कहा कि नोटबंदी का कोई भी मकसद पूरा नहीं हो पाया है। पूर्व पीएम ने कहा, कल (8 नवंबर 2017 को) हम इस विनाशकारी नीति का एक साल पूरा कर रहे हैं। यह दिन देश की अर्थव्यवस्था और लोकतंत्र के लिए एक काला दिन था। उन्होंने कहा कि टैक्स टेररिजम के डर ने भारतीय कारोबारियों में निवेश को लेकर जमे भरोसे को खत्म कर दिया।

Leave a Reply

Top