You are here
Home > NEWS > पटाखों पर बैन के बावजूद दिल्ली का प्रदूषण स्तर नहीं हुआ कम

पटाखों पर बैन के बावजूद दिल्ली का प्रदूषण स्तर नहीं हुआ कम

देश की राष्ट्रिय राजधानी दिल्ली में दिवाली के मौके पर सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर की जमकर धज्जियां उड़ाई गईं. दिल्ली में जमकर पटाखे फोड़े गए. राजधानी में जमकर हुई आतिशबाजी से धुएं के गुब्बार और धुंध में एक बार फिर दिल्ली पूरी तरह सिमट गई है. प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बावजूद दिल्ली में कई जगहों पर जमकर आतिशबाजी हुई और वो तमाम पटाखे भरपूर दागें गए जो शहर की फिजाओं में बारूदी जहर घोल रहे हैं.

ऐसे में वायु प्रदूषण के जो आंकड़े हमारे सामने निकलकर आए हैं, जो इस बात की गवाही दे रहे हैं कि दीपावली से एक दिन पहले ही दिल्ली में वायु प्रदूषण ने सभी रिकॉर्ड को पूरी तरह चकना चूर कर दिया है. अब DPCC ने हर जगह की जांच करना शुरू किया जिसमें उन्होंने 10 केंद्रों के आंकड़े जुटाए हैं उनमें दिल्ली के श्रीनिवासपुरी, वजीरपुर, करणी सिंह स्टेडियम, ध्यानचंद हॉकी स्टेडियम, जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम, ITI जहांगीरपुरी, आनंद विहार बस अड्डा, मंदिर मार्ग, पंजाबी बाग और आरके पुरम जैसी जगह शामिल हैं.

गौरतलब है कि प्रदूषण के लिहाज ले पीएम 2.5 बहुत अधिक खतरनाक है, जोकि दिल्ली की आबोहवा में घुल चुका है। बता दें कि दिल्ली में यहीं पार्टिकुलेट मैटर 2.5, दिल्ली की हवा में 9 गुना ज्यादा दर्ज किया गया है। दरअसल से पीएम 10 की तुलना में छोटा होता है , लेकिन घातक सबसे ज्यादा होता है। इसके खतरनाक होने के पीछे कारण ये है कि ये सास की धमनियों को सबसे महीन स्तर तक पहुंचा देता है।

Leave a Reply

Top