You are here
Home > breaking > राष्ट्रपति ने CBSE Board 10वीं और 12वीं छात्रों को दी शुभकामनाएं

राष्ट्रपति ने CBSE Board 10वीं और 12वीं छात्रों को दी शुभकामनाएं

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 10वीं व 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाएं सोमवार से शुरू हो गई हैं। जहां पहले दिन 10वीं के छात्र वोकेशनल विषय तो वहीं 12वीं के छात्र अंग्रेजी विषय की परीक्षा देंगे।

12 अप्रैल को 12वीं के छात्रों के लिए होम साइंस की परीक्षा आयोजित होगी और इसी के साथ ही परीक्षा खत्म हो जाएगी। आज से शुरू हुई 10वीं व 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाओं  के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने छात्रों को शुभकामनाएं दी हैं।

देशभर में कुल 8,591 परीक्षा केंद्र

10वीं और 12वीं दोनों कक्षाओं की परीक्षाएं सुबह 10:30 से शुरू होंगी। दोनों बोर्ड परीक्षाओं को शांतिपूर्ण रूप से कराने के लिए बोर्ड ने देशभर में कुल 8,591 परीक्षा केंद्र बनाए हैं।

इस बार परीक्षा देने के लिए दोनों कक्षाओं के कुल 28 लाख 24 हजार 734 विद्यार्थी पंजीकृत हैं। जिसमें 12वीं के लिए 11,86,306 विद्यार्थी तो वहीं 10वीं की परीक्षा के लिए 16,38428 विद्यार्थी पंजीकृत हैं।

5 लाख से अधिक छात्र देंगे बोर्ड परीक्षा

CBSE के अनुसार, इस बार दिल्ली से 5 लाख से ज्यादा छात्र बोर्ड परीक्षा देंगे। इनमें प्राइवेट स्कूलों से दसवीं कक्षा के 110707 विद्यार्थी व सरकारी व सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों से 155387 विद्यार्थी पंजीकृत हैं।

वहीं 12वीं कक्षा में प्राइवेट स्कूलों से 105351 विद्यार्थी व सरकारी व सरकारी सहायता प्राप्त स्कूलों से 129647 विद्यार्थी परीक्षा के लिए पंजीकृत हैं।

बीमार होने पर भी मिलेगी स्क्राइब की सुविधा

CBSE ने अपने परीक्षा उपनियमों में इस बार अहम बदलाव किए हैं। जिसके तहत परीक्षा के दौरान अगर छात्र आकस्मिक रूप से बीमार हो जाते हैं तो ऐसी स्थिति में उन्हें प्रश्न पत्र हल करने के लिए स्क्राइब (लिपिक) की सुविधा दी जाएगी।

इस सुविधा का के लिए बीमार छात्र को असिस्टेंट सर्जन स्तर के चिकित्सा अधिकारी की तरफ से जारी मेडिकल सर्टिफिकेट दिखाना होगा। इसके बाद ही छात्र जूनियर विद्यार्थी का स्क्राइब के तौर पर प्रयोग कर सकेंगे।

दिव्यांग विद्यार्थियों को मिलेगा कंप्यूटर

दिव्यांग या विशेष आवश्यकता वाले छात्र पेपर हल करने के लिए कंप्यूटर या लैपटॉप का प्रयोग कर सकेंगे। CBSE के अनुसार, कंप्यूटर या लैपटॉप का उपयोग ऐसे छात्र उत्तर लिखने, प्रश्नों को देखने के लिए बड़ा करने के लिए कर सकते हैं। जानकारी के मुताबिक, इन कंप्यूटरों में इंटरनेट कनेक्शन का नहीं होगा।  

33% अंक प्राप्त करने वाले छात्र पास

इस बार सीबीएसई ने 10वीं बोर्ड परीक्षा के पास होने के मानदंड में अहम बदलाव किया है। जिसके तहत आंतरिक व बोर्ड परीक्षा के मूल्यांकन को मिलाकर 33% अंक प्राप्त करने वाले छात्र भी पास हो जाएंगे। हालांकि, 10वीं में पास होने के मानदंड में यह बदलाव सिर्फ इस साल की बोर्ड परीक्षा के लिए किया गया है।

Leave a Reply

Top