You are here
Home > HOME > Vishesh

इधर भारतीय सेना के हाथ खुले उधर दुश्मनों के मुंह खुल गए- संजय पांडेय

संजय पांडेय लद्दाख में लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल यानी एलएसी पर चीनी सेना का फ्लॉप शो लगातार जारी है। पहले चीनी गलवान घाटी में पिटे और फिर ब्लैक टॉप जैसी सैन्य रणनीति के लिहाज से महत्वपूर्ण चोटियां भी भारतीय सेना के हाथों खो दी। इलाके का चौधरी बनने की चाह में

क्या कहती हैं आपके हाथ की रेखाएं- हरीश शर्मा

हरीश शर्मा, लेखकहस्तरेखा विज्ञान में विशेष रुचि हाथ के फ़ोटो में अँगूठे के नीचे के भाग को शुक्र पर्वत कहते है हाथ को अच्छे से धोकर साफ करके देखिए कोई नीलापन तो नही है यदि नही तो आपकी आर्थिक स्थिति सही है बशर्ते कि शुक्र पर्वत उभार लिए हो। (फ़ोटो में

रिलायंस ज्वेल का ‘आभार-कलेक्शन’ लॉन्च, हीरे पर मिलेगी 30 फीसदी तक की छूट

बोल बिंदास-नई दिल्ली, फेस्टिव सीजन शुरू हो चुका है और ग्राहकों को लुभाने के लिए कंपनियां तरह तरह की डील ऑफर कर रही हैं। रिलायंस ज्वेल ने भी इस मौके पर एक नया नवेला ‘आभार कलेक्शन’ लॉन्च किया है। इस कलेक्शन की खासियत है इसका डिजाइन, जिसका थीम लालटेन

जानिए दिल्ली को किसने दिया इंद्रप्रस्थ नाम , ये कैसा बना महातीर्थ- सर्जना शर्मा

सर्जना शर्मा भारत की राजधानी दिल्ली कई बार बसी कईं बार उजड़ी । दिल्ली में ऐसा कुछ विशेष तो है कि हर विदेशी आक्रमणकारी को दिल्ली का तख्तो ताज चाहिए । जिसके पास दिल्ली नहीं उसके पास कुछ नहीं । ये वही दिल्ली है जो कौरवों पांडवों का इंद्रप्रस्थ थी ।

आधुनिक युग प्रवर्तक- गुरु पूर्णिमा विशेष-सर्जना शर्मा

सर्जना शर्मा बाबा रामदेवः योग संस्कृति पुनर्जागरण के प्रवर्तक मुख्यालय – पतंजलि योग पीठ हरिद्वारगुरू मंत्र –ऊं विशेषता – प्राचीन योग विधा को दोबारा लोकप्रिय बनाया योगी, राजनीतिज्ञ, आंदोलनकारी, सफल व्यापारी या विवादित व्यक्तित्व, बाबा रामदेव के अनेक आयाम हैं। लेकिन उनकी पहचान का सबसे बड़ा आधार है - योग। कहा जाता है कि

मेजर धन सिंह थापा जो मर कर जीवित हुए

10 जून/ जन्मदिवस मेजर धन सिंह थापा उन वीर गोरखा नायको में से है , जिन्होंने अपने जीवन को अनुशासन और शौय से भारतवर्ष को अतुलनीय योगदान दिया। 10 जून 1928 को शिमला में पी एस थापा के घर जन्मे धन सिंह ने अगस्त 1949 में भारतीय सेना के 8th

पराक्रमी राजा सुहेलदेव

10 जून/विजय-दिवस मुस्लिम आक्रमणकारी सालार मसूद को बहराइच (उत्तर प्रदेश) में उसकी एक लाख बीस हजार सेना सहित जहन्नुम पहुंचाने वाले राजा सुहेलदेव का जन्म श्रावस्ती के राजा त्रिलोकचंद के वंशज पासी मंगलध्वज (मोरध्वज) के घर में माघ कृष्ण 4, विक्रम संवत 1053 (सकट चतुर्थी) को हुआ था। अत्यन्त तेजस्वी होने

निर्जला एकादशी का महत्व- सर्जना शर्मा

सर्जना शर्मा भयंकर गर्मी का महीना जयेष्ठ चल रहा है। इस महीने की गर्मी शरीर के लिए बहुत घातक हो सकती है अगर हम अपना ठीक से ध्यान ना रखें तो । भारत पूरी दुनिया में एकमात्र ऐसा देश है जिसमें 6 ऋतुएं हैं। हमारे सारे त्यौहार, पर्व ऋतुओं के

देवबंद को देववृंद करने से क्या होगा? रवि पाराशर

रवि पाराशर हाल ही में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के बाद सहारनपुर ज़िले के देवबंद क़स्बे का नाम ‘देववृंद’ करने के समर्थन में आवाज़ उठी। एक और मांग चर्चा में है कि मुंबई में ढाई एकड़ में बने 2603 करोड़ रुपए की क़ीमत वाले जिन्ना हाउस को ढहाकर वहां सांस्कृतिक केंद्र

माँ का नामकरण- कमलेश के मिश्र

आजमदर्स डे की सोशल धूम है. पहली नज़र में मेरा मानना है कि यह बाज़ारजनित नवसृजित पर्व है. एक दिन में क्या जतेगा माँ के प्रति आदर. माँ तो युगों में बसी हस्ती है माँ मेरे साँसों की किश्ती है तो आजका दिन माँ के लिए स्पेशल बन रहा है तो

Top