You are here
Home > NEWS > मनोहर सरकार में सबसे ज्यादा नौकरियां, सबसे पारदर्शी तरीका-सिफारिश मुक्त, रिश्वत मुक्त -6134 नवनियुक्त क्लर्कों को बधाई-जवाहर यादव

मनोहर सरकार में सबसे ज्यादा नौकरियां, सबसे पारदर्शी तरीका-सिफारिश मुक्त, रिश्वत मुक्त -6134 नवनियुक्त क्लर्कों को बधाई-जवाहर यादव

इनेलो-कांग्रेस के मित्र गड़बड़ियां और भ्रष्टाचार ढूंढते रह गए, और मनोहर सरकार ने पारदर्शिता की मिसाल पेश करते हुए हजारों योग्य युवाओं को सरकारी नौकरी दे दी। भर्तियों को रोकने के लिए कोई कोर्ट गया, किसी ने धरने दिलवाए लेकिन सबका साथ सबका विकास के मंत्र पर चलते हुए मनोहर लाल सरकार ने हर मौके पर उनकी बोलती बंद करवाई।

आज जब हम अपनी सरकार के साढ़े तीन साल पूरे करने जा रहे हैं तो हम हुड्डा राज के पहले कार्यकाल के 5 साल और चौटाला सरकार के 6 साल से कहीं आगे निकल गए हैं, सरकारी नौकरियां देने के मामले में। जहां चौटाला सरकार में 11800 लोगों को सरकारी नौकरी दी गई थी वहीं हुड्डा सरकार में 20030 लोग नौकरी लगे थे। दोनों सरकारों के दौरान हुई भर्तियों पर कई तरह के सवाल उठे और भ्रष्टाचार को लेकर अदालतों में केस चले। यह कमाल ही है कि मनोहर लाल जी की ईमानदार सरकार ने सिर्फ साढ़े तीन साल में 24016 लोगों को पक्की सरकारी नौकरी दे दी हैं। इससे भी बड़ी बात यह है कि हमारे कार्यकाल में पूरी हुई किसी भी भर्ती प्रक्रिया पर कोई आरोप साबित नहीं हो पाया। अदालत में कोई केस गया भी तो उसमें मनोहर सरकार बिल्कुल पाक साफ साबित होकर निकली।
जहां पिछली सरकारों में सेलेक्शन लिस्ट आ जाने के बाद भी युवाओं को ज्वाइनिंग के लिए महीनों का इंतज़ार करना पड़ता था, वहीं अब 24-48 घंटों में उनके हाथ में नियुक्ति पत्र होता है। यह बहुत बड़ी राहत की बात है और सरकार की नेक नीयत को दर्शाती है।

हां, इस पारदर्शी आनंद को इनेलो-कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ता और नेता जरूर महसूस कर रहे हैं जिनके बेटे-बेटियां इस सरकार में नौकरी लग गए। नैतिकता दिखाते हुए वे लोग खुद सामने आकर बताएं कि उनके बच्चे बिना सिफारिश और बिना रिश्वत के ही नौकरी के लिए चयनित हुए हैं। विशेषकर कांग्रेस नेताओं को तो इस मामले में आरोप लगाने में वक्त खराब करना बंद कर देना चाहिए क्योंकि उनके नेता खुद विधानसभा में इसे स्वीकार चुके हैं। पूर्व स्पीकर रघुबीर काद्यान ने विधानसभा में खड़े होकर कहा कि पुलिस की भर्ती पूर्णत: पारदर्शी रही। वहीं पूर्व शिक्षा मंत्री गीता भुक्कल की बेटी का चयन हमारी सरकार में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर हुआ है और उनका कहना है कि उनकी बेटी इंटेलिजेट है और योग्यता के आधार पर चयनित हुई है। यही हम कह रहे हैं, यही गीता भुक्कल जी कह रही हैं।

पारदर्शी भर्ती से सरकारी सेवा में आए 6134 योग्य क्लर्कों को बधाई।

Leave a Reply

Top