You are here
Home > HOME > भारतवर्ष- भारत के आम से महान बनने का दस्तावेज-विकास कौशिक

भारतवर्ष- भारत के आम से महान बनने का दस्तावेज-विकास कौशिक

बोल बिंदास

जिस किताब #भारतवर्ष से आपका परिचय कराने की कोशिश कर रहा हूं ये कोई आम किताब नहीं ये किताब तो भारत वर्ष के आम से महान बनने का दस्तावेज है । उन 10 लोगों की कहानी जिनके जीवन ने भारत को बदला ।

लेकिन भारत के हज़ारों वर्ष के इतिहास में से केवल 10 जीवन चुनना, दंत कथाओं से लेकर इतिहास की धूल खाती सैंकड़ो पुरानी किताबों में उन पर बयान की गई बातों, अनजाने, अनकहे पहलुओं को सामने लाना…ये काम आसान नहीं था…और वो भी बिना किसी वैचारिक चश्में को पहने तो शायद बिल्कुल नहीं । लेकिन आसान काम करना संजय नंदन की पहचान है भी नहीं । शायद इसीलिए ABP News के #Pradhanmantri #Ramrajya #Bharatvarsh जैसे भारतीय न्यूज़ टेलिविजन इतिहास के कालजयी कार्यक्रम और उनकी बदौलत मिला #RamnathGoyankaaward उनके खाते में दर्ज है ।

भारतवर्ष ये किताब भी संजय नंदन के कार्यक्रम भारतवर्ष पर ही आधारित है और जिन दिनों संजय नंदन इसकी रिसर्च करने में जुटे थे तभी उनके मन में ये बात आ गई थी कि इसे सिर्फ टीवी एपिसो़ड्स तक सीमित रखना विषय के साथ नाइंसाफी होगी । यहां ये बताना जरुरी है कि ऐसी नाइंसाफी वो पहले भी अपने कार्यक्रम प्रधानमंत्री के साथ कर चुके थे ।

आज़ादी के बाद के भारतीय राजनीतिक इतिहास की ब़ड़ी करवटों का खाका खींचने वाली प्रधानमंत्री सीरीज जो छात्रों और आम दर्शक ही नहीं देश के पूर्व उप- प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी तक की दिलचस्पी का सबब भी रह चुकी थी उस प्रधानमंत्री सीरीज पर वो किताब नहीं लिख पाए थे । पर भारत वर्ष के लिए जिस विषय को उन्होंने चुना वो विषय ही नहीं उसके किरदार और उनसे जुड़ी तमाम बातें भी कहीं ज्यादा व्यापक थीं और देश पर गर्व करने वाले लोगों के लिए वो बातें जाना ज्यादा जरुरी भी था इसीलिए संजय नंदन ने तय कर लिया कि इस बार वो ये किताब जरुर लिखेंगे और अब नतीजा देखिए – Juggernaut Books / app.juggernaut.in पर ये किताब आ गई है फिलहाल ये ऑनलाइन और app based वर्जन है । किताब का लिंक है –

https://www.juggernaut.in/books/79407a4316db45fdb940401d3bbfea84

इस पर एक क्लिक करके आप इस किताब को निशुल्क पढ़, और भविष्य के लिए सहेज सकते हैं ।

स्कूल कॉलेज जाने वाले आपके बच्चे छुट्टियों में इस किताब को पढ़ें, और आप चाहें तो छुट्टी लेकर पढ़ें, मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि आप निराश नहीं होंगे महात्मा बुद्ध, आदि शंकराचार्य, कबीर, महाराणा प्रताप, शिवाजी महाराज जैसी शख्सियतों के विषय में जानकारी ही नहीं वो उनकी महानता को जानने -समझने का एक नया नज़रिया भी आपको जरुर मिलेगा और हां ये भी मत भूलिए ये किताब एक टेलिविजन शो से जन्मी है इसलिए टेलिविजन सा सरल भाषा प्रवाह औऱ दृश्यात्मकता इसकी खासियत है इस लिहाज से भी ये संजय नंदन की ये किताब एक अच्छा अनुभव साबित होगी ।

खैर बात यहां संजय नंदन की नहीं इस किताब को उनके साथ लिखने वाले बड़े भाई Rajnish Prakash की भी होनी चाहिए । एक ज़माने क्राइम शोज़ के बाप माने जाने वाले रेडअलर्ट के अगुआ रहे रजनीश भाई ने इस किताब से साबित किया है कि बतौर लेखक उनका दायरा कितना बड़ा है । उन्होंनें गौतम बुद्ध से लेकर शिवाजी महाराज तक भारत के इतिहास के महान व्यक्तित्वों पर जो गहन शोध परक काम किया और बहुत नपे तुले वक्त वाले टेलिविजन शो के जरिए आम लोगों के सामने रखा वो बतौर टेलिविजन प्रोड्यूसर उऩकी काबिलियत का लोहा मनवाने के लिए काफी था ही अब उनके नाम ये एक नई उपबल्धि हमारे जैसे उनके चाहने वालों के लिए खुशी की बड़ी वजह है । वैसे मैं इस किताब को इतना प्रमोट क्यों कर रहा हू इसकी भी एक खास वजह है, इतनी देर तक मेरा लिखा पढ़ने के लिए आपका आभार देते हुए मैं कहना चाहता हूं कि इस किताब के हर अध्याय के बाद लिखे आभार को पढ़ेंगे तो आप ये भी जरुर जान जाएंगे ।

विकास कौशिक

Leave a Reply

Top