You are here
Home > HOME > आयुष्मान भारत, सुंदर, सबल, यशस्वी भारत- रचना बाजपेयी

आयुष्मान भारत, सुंदर, सबल, यशस्वी भारत- रचना बाजपेयी

लेखिका रचना बाजपेयी समाज सेविका है। आप बच्चों, महिलाओं और स्वास्थ्य के क्षेत्र में सतत् कार्यरत हैं ।

आज का दिन देश के इतिहास में स्वर्णाक्षरों में लिखा जायेगा। आज रांची में देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने ‘ आयुष्मान भारत- प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना ‘ की शुरूआत कर देश के 50 करोड़ लोगों को स्वास्थ्य रक्षा के लिए 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध करा दिया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के इस कदम ने विकास के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति के लिए उसके स्वास्थ्य की रक्षा सुनिश्चित कर दी है।

इस योजना का शुभारंभ करते पीएम मोदी ने अपने भाषण में कहा कि अगर आप अमेरिका, कनाडा और मैक्सिको की आबादी को भी जोड़ दें, तो उनकी कुल संख्या इस योजना के लाभार्थियों की संख्या के करीब ही होगी। देश के 50 करोड़ से ज्यादा भाई-बहनों को 5 लाख रुपए तक का स्वास्थ्य बीमा देने वाली ये दुनिया की सबसे बड़ी योजना है।

इस योजना का लाभ क्या है ये वही समझ सकता है जो भुक्तभोगी है। आज देश को स्वतंत्र हुए 71 वर्ष हो गए हैं लेकिन देश के अधिकांश आबादी के पास ना रहने का घर है, ना खाने के लिए दो वक्त की रोटी। ऐसे हालात में उसे अपनी हारी बीमारी के इलाज के लिए नीम हकीमों के चक्कर काटने पड़ते थे। सरकारी हस्पतालों की हालत जो है सो है, जिसमें मरीजो की भीड़ लगातार दबाव बनाये हुए रहती है। आम आदमी किसी प्राइवेट हस्पताल में महंगा इलाज कराये तो कराये कैसे? बीमा योजनाए तो बहुत हैं लेकिन बीमा कराने के लिए उसके पास पैसा हो, जागरूकता हो, ये भी आवश्यक है। आज आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की शुरूआत कर देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने देश के 10 करोड़ परिवारों को उत्तम स्वास्थ्य का तोहफा दिया है। इस योजना के अंतर्गत लगभग 50 करोड़ लोग लाभांवित होंगे।

इस योजना का लाभ लेने योग्य व्यक्तियों की सूची इंटरनेट पर उपलब्ध है। योजना का लाभ लेने के लिए व्यक्ति के पास आधार कार्ड होना अनिवार्य है। प्रत्येक परिवार को 5 लाख रूपये के स्वास्थ्य बीमा का लाभ मिलेगा। लाभार्थी पूरे देश में कहीं भी इस योजना के अंतर्गत सरकारी और संबद्ध प्राइवेट हस्पतालों में इस योजना का लाभ ले सकते हैं और सबसे खास बात ये योजना कैशलेस है। यानि व्यक्ति को अपने इलाज के लिए एक रूपया भी खर्च नही करना होगा।

कहना ना होगा की स्वतंत्रता के बाद देश में गरीब लोगों का ध्यान रखते हुए इतनी बड़ी योजना पहली बार आयी है। ये योजना मोदी जी के दीनदयाल उपाध्याय जी के ‘एकात्म मानववाद’ के स्वप्न को पूरा करने की ओर बढ़ाया गया एक ओर कदम हैं, जिसमें दीनदयाल जी ने समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति के विकास की कल्पना की है।

अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें।

https://www.abnhpm.gov.in/

 

Leave a Reply

Top